स्वच्छता सर्वेक्षण में नम्बर वन के बाद इंदौर अब होगा डस्ट फ्री

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 04:21 PM IST
  • स्वच्छता सर्वेक्षण में लगातार चौथी बार देश में नम्बर 1 बनने के बाद इंदौर नगर निगम शहर को डस्ट फ्री करने की योजना बना रहे है. ये है योजना 
इंदौर वासियों ने बनाई रंगोली 

इंदौर: एमपी के इंदौर ने स्वच्छता सर्वेक्षण में नया इतिहास रचा है.शायद ही कोई शहर लगातार चार बार सफाई में यह इतिहास बना पाए.बीते दिन जारी हुए स्वच्छता सर्वेक्षण के रिजल्ट में इंदौर को चौथी बार नम्बर का खिताब मिला है.अब इंदौर नगर निगम ने जीरो वेस्ट-जीरो डस्ट वार्ड का काॅन्सेप्ट शुरू किया है.जो बहुत चुनौतीपूर्ण नजर आ रहा है. शहर के पांच वार्ड 4, 32, 47, 66 और 73 को जीरो वेस्ट बनाने के लिए एनजीओ के प्रतिनिधि घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगे. घर में ही कम्पोस्टिंग बिन लगाने के लिए प्रेरित करेंगे. 

कितना खर्चा आएगा प्रति परिवार ?

एक कम्पोस्टिंग डस्टबिन पर 700 से 2100 रुपए तक खर्च आएगा. लोग घरों में ही गीला कचरा उसमें डाल सकेंगे. 45 से 60 दिन में वह खाद बन जाएगा. घर में कम्पोस्टिंग बिन लगने के बाद कचरा निकलना बिलकुल बंद हो जाएगा. एनजीओ की टीम लोगों के घरों से सिर्फ सूखा कचरा ही लेगी. इसके सेग्रीगेशन के लिए वार्ड स्तर पर ही ड्राय वेस्ट सेंटर बनाया जाएगा. यहां पर कबाड़ में बिकने वाली सभी चीजों को अलग कर दिया जाएगा. सिर्फ बची हुई धूल या छोटे पाउच जिन्हें रिसाइकिल नहीं किया जा सकता, सिर्फ वही देवगुराड़िया में लैंड फिलिंग के लिए भेजे जाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें