इंदौर में कोविड पीड़ित युवती की अस्मत लूटने का प्रयास करने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Fri, 7th May 2021, 8:23 PM IST
.मध्यप्रदेश के इंदौर में एक ओर तो कोरोना ने कोहराम मचा रखा है वही दूसरी ओर स्वास्थ्य सेवा से जुड़े कर्मचारी अपनी नापाक हरकतों को अंजाम देने से नही चूक रहे है। दरअसल, इंदौर के एम. वाय. अस्पताल में वार्ड बाय के रूप में काम करने वाले 2 कर्मचारियों ने कोरोना संक्रमित युवती से रेप की कोशिश की .
प्रतिकात्मक तस्वीर

इंदौर के एम. वाय. अस्पताल के चेस्ट वार्ड में दुष्कर्म करने के प्रयास की घटना 4 से 5 की दरमियानी रात की है। बताया जा रहा है कि बाणगंगा थाना क्षेत्र में रहने वाली युवती कोरोना संक्रमित है और उसे इलाज के लिए एम.वाय. अस्पताल लाया गया था। जहां 4 मई की रात को युवती के साथ दो वार्ड बॉय ने दुष्कर्म करने का प्रयास किया। योजना के मुताबिक दोनो ही वहशी दरिंदो ने पहले वार्ड की लाइट (बिजली) बंद कर दी इसके बाद दोनों ने कोरोना संक्रमण की शिकार युवती का रेप करने की कोशिश की। हालांकि जब वो ये वारदात को अंजाम देने का प्रयास कर रहे थे, उसी दौरान युवती जोर से चीखी और चिल्लाई तो अस्पताल में हड़कम्प मच गया जिसके बाद दोनों आरोपी मौके से भाग खड़े हुए। इधर, न्यू चेस्ट वार्ड के इंचार्ज डॉ.अभय पालीवाल को घटना की जानकारी हुई तो उन्होंने संयोगितागंज थाने पर शिकायत की। इधर, पुलिस ने शिकायत मिलने पर आरोपी हृदेश और शुभम के खिलाफ धारा 354 के तहत छेड़छाड़ का केस दर्ज किया।

मिली जानकारी के मुताबिक दोनो ही वार्ड बॉय यूडीएस कंपनी के जरिये ठेके पर एम.वाय. अस्पताल में कार्यरत थे और जब कंपनी के मैनेजर अमन को इस बात का पता चला तो उसने मामला दबाने की कोशिश की थी। फिलहाल, पुलिस ने दोनों आरोपियों को गुरुवार शाम को गिरफ्तार कर लिया है। इसके पहले संयोगितागंज थाने से एसआई विशेष अनुमति लेकर पहुंची और युवती के बयान लिए। इधर, युवती के परिजनों में घटना को लेकर खासा आक्रोश है। इस पूरे मामले में शांति मंच द्वारा कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसके बाद मामला दबाने को लेकर कोर्ट ने सरकार से जबाव मांगा है।

इंदौर के पूर्वी क्षेत्र के एस.पी. आशुतोष बागरी ने शुक्रवार को मीडिया को बताया कि एम.वाय. अस्पताल के चेस्ट वार्ड में कोविड पेशेंट भर्ती है और 4 से 5 की दरमियानी रात को यूडीएस कंपनी के दो वार्ड बाय ने पूरे वार्ड की लाइट बन्द कर दी और महिला के साथ गम्भीर रूप से छेड़छाड़ करने का प्रयास किया। जिसे लेकर अस्पताल प्रशासन ने एफआईआर दर्ज कराई और दोनो फरार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर उन पर कार्रवाई शुरू कर दी है। वही इंदौर एसपी ने बताया कि जितने भी लोग प्रायवेट ठेके पर रखे गए है उनका वेरिफिकेशन पुलिस करेगी ताकि आगे से इस तरह की वारदात सामने न आये। फिलहाल, इंदौर में सामने आई इस घटना के बाद सवाल महिला सुरक्षा को लेकर तो उठ ही रहे है वही सवाल ये भी उठ रहे है कि कोविड के इस दौर में अस्पताल पर विश्वास न किया जाए तो फिर किस पर किया जाए।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें