फर्जी SI बनकर लिया 8 लाख का दहेज, मंगेतर की शिकायत पर पुलिस ने किया गिरफ्तार

Uttam Kumar, Last updated: Mon, 18th Oct 2021, 10:38 AM IST
इंदौर के शख्स ने फर्जी SI (Sub Inspector) बनकर एक महिला के साथ सगाई कर दहेज के रूप में आठ लाख रुपये ले लिया. मंगेतर द्वारा विजयनगर थाने में तहरीर देने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस को आरोपी के पास से पुलिस की वर्दी और नकली आईडी कार्ड मिला है. 
प्रतिकात्मक फोटो. 

इंदौर. विजय नगर थाना क्षेत्र निवासी एक शख्स ने नकली सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector) बनकर लड़की वालों को चुना लगा दिया. फर्जी सब इंस्पेक्टर ने सगाई के बाद लड़की वालों से दहेज में नकदी और एक्टिवा गाड़ी ले ली. इतना ही नहीं फर्जी सब इंस्पेक्टर ने लड़की वालों को कहा था कि छह महीने बाद उसका प्रमोशन होने वाला है, जिसके बाद वह कमिश्नर बन जाएगा. आरोपी ने सब इंस्पेक्टर की फर्जी आईडी कार्ड के साथ पुलिस की वर्दी भी सिला रखा था. 

दरअसल फर्जी सब इंस्पेक्टर का नाम रवि है. मंगेतर के अनुसार उसकी इसी साल 28 जून को दोनों की सगाई तय हुई थी. जिसके बाद आरोपी ने दहेज के नाम पर उसके परिवार वालों से 8 लाख रुपये की मांग की थी.  लड़की के परिवार वालों ने 8 लाख रुपये नगद दिए थे. सगाई के कुछ दिन आरोपी रवि ने अपनी मंगेतर को एक्टिवा दिलाने की बात कही. शोरूम ले जाकर उसने मंगेतर के  नाम पर एक्टिवा फाइनेंस करवा दी. बाद में एक्टिवा अपने पिता को दे दी.

गरबा कार्यक्रम में 'ब्लू है पानी पानी' बजने पर बजरंग दल का बवाल, आयोजक पर FIR

आरोपी की मंगेतर के अनुसार 13 मई 2021 को रवि उसके बर्थडे पर घर आया था. तब जाकर उस पर शक हुआ. वो अपना नाम रवि सोलंकी बता रहा था. लेकिन  वर्दी पर RS सोलंकी लिखा था. आईडी कार्ड भी काफी अलग दिख रहा था. लेकिन परिवार वालों को उसने कहा कि वह सेंट्रल गवर्नमेंट में काम करता है. सेंट्रल गवर्नमेंट ने उसे मध्य प्रदेश में अपॉइंट किया है. आरोपी ने मंगेतर द्वारा फोटो मांगने पर पुलिस यूनिफॉर्म वाली फोटो भेजी. जिसके बाद मंगेतर का शक और गहरा गया. 

बहू ने अपनी ससुराल में ही डाल दिया एक करोड़ का डाका, मायके वालों से...

मंगेतर के छोटे भाई ने एसपी ऑफिस जाकर पता लगाया तो सच का खुलासा हुआ. जिसके बाद मंगेतर ने विजय नगर थाने में तहरीर दी.  एसपी आशुतोष बागरी के नेतृत्व में पुलिस ने फर्जी पुलिस वाले रवि सोलंकी उर्फ राजवीर को गिरफ्तार के लिया है. पुलिस पूछताछ में उसने काबुल किया कि फर्जी सब इंस्पेक्टर के नाम पर इंदौर के कई लोगों से काम करवाने के नाम पर रुपया ले रखा है. वो जब भी किसी से रुपए लेने आता, तो अपने गांव सिमरोल से दोस्त की कार लेकर आता. इस तरह की लेन-देन करते  समय ही  वर्दी पहनता था. बाकी समय वह सादे कपड़ों में ही घूमता था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें