इंदौर: दिवाली पर बिजली कर्मचारियों को तोहफा, 5 हजार से ज्यादा कर्मियों का वेतन बढ़ा

Swati Gautam, Last updated: Wed, 3rd Nov 2021, 12:02 PM IST
  • पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के कर्मचारियों को इस दिवाली तोहफा मिल गया. बता दें कि 8 प्रतिशत महंगाई भत्ते और वेतनवृद्धि के एरियर की 50 फीसद राशि अक्टूबर महीने की सैलरी के साथ ही मिल जायेगी. कर्मचारियों के बैंक खातों में वेतनवृद्धि की राशि बुधवार को ही बैंक खातों में भी पहुंच जाएगी.
इंदौर: दिवाली पर बिजली कर्मचारियों को तोहफा, 5 हजार से ज्यादा कर्मियों का वेतन बढ़ा. file photo

इंदौर. आंदोआंदोलन और हड़ताल पर अड़े बिजली कर्मचारियों के सामने उर्जा विभाग ने आखिरकार हार मनाने का काम कर ही लिया है. यह फैसला लिया गया है कि पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के कर्मचारी अधिकारियों को 8 प्रतिशत महंगाई भत्ते और वेतनवृद्धि के एरियर की 50 फीसद राशि अक्टूबर महीने की सैलरी के साथ ही मिल जायेगी. इस खबर के बाद काफी समय से हड़ताल कर रहे बिजली कर्मचारियों ने राहत की सांस ली है. वहीं जानकारी अनुसार बिजली कंपनी में काम कर रहे आउटसोर्स कर्मचारियों को अब तक उनका वेतन भी नहीं मिला है.

भोपाल में मध्यप्रदेश युनाइटेड फोरम व बिजली कर्मचारियों के संयुक्त मोर्चा के पदाधिकारियों के साथ उर्जा सचिव संजय दुबे की बैठक हुई. जहां पता चला कि बिजली कंपनी में काम कर रहे आउटसोर्स कर्मचारियों को अब तक उनका वेतन भी नहीं मिला है. उर्जा सचिव संजय दुबे की इस बैठक के बाद तुरत-फुरत में उर्जा सचिव ने सभी बिजली कंपनियों को आदेश जारी कर दिए. बता दें कि बिजली कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के बैंक खातों में वेतनवृद्धि की राशि बुधवार को ही बैंक खातों में भी पहुंच जाएगी.

कैलाश विजयवर्गीय का आरोप, इस्लाम की तरह तलवार के बल पर TMC में जा रहे BJP नेता

बता दें कि बिजली कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों ने दीपावली के पहले वेतनवृद्धि का लाभ न मिलने पर हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे दी थी जिसके चलते दिवाली से पहले ही कर्मचारियों को मांगे पूरी कर ली गई. वहीं दूसरी और मंगलवार को बिजली की मांग में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इंदौर शहर में बिजली की मांग एक दिन पहले के मुकाबले 20 मैगावाट ज्यादा रही. धनतेरस के मौके पर कुल मांग 392 मैगावाट रही है और धनतेरस वाले दिन कंपनी क्षेत्र की अधिकतम मांग 4590 मैगावाट दर्ज की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें