इंदौर: पैसे निकलते ही कर देते ATM की पावर सप्लाई बंद फिर बैंक से लेते थे रिफंड

Smart News Team, Last updated: 23/08/2020 05:55 PM IST
  • इंदौर पुलिस ने एक ऐसे गिरोह को गिरफ्तार किया है जो पहले मशीन से पैसा निकालते और उसके बाद मशीन की मेन पावर सप्लाई को बंद कर देते. बाद में आरोपी बैंक से उतनी रकम रिफंड भी कराते थे.
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर. इंदौर के चन्द्रनगर में एटीएम मशीन का पावर सप्लाई बंद कर रुपए निकालने वाले जालसाजों को पुलिस ने जालसाजी के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. पुलिस द्वारा जालसाजों से पूछताछ के दौरान कई बड़े खुलासे हुए हैं.

दरअसल इंदौर में कुछ जालसाज एटीएम मशीन की पॉवर सप्लाई बंद कर उससे पैसे निकाल कर बैंक से भी उतनी ही धनराशि रिफंड करा ले रहे थे. बार-बार यह घटना होने पर मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने जालसाजो को हिरासत में लेकर पूछताछ की. पूछताछ के बाद पुलिस ने गिरोह को जेल भेज दिया.

बरसात मे डूबा इंदौर, बढ़ेंगी मुसीबतें, मौसम विभाग ने जारी किया भारी बारिश अलर्ट

पुलिस ने बताया कि चंद्रनगर के मनीष पाराशर की शिकायत पर मुकदमा दर्ज किया गया है. दरअसल 16 जुलाई 2020 को गोकुलगंज महू में एसबीआई के एटीएम बूथ में जालसाजों ने घटना को अंजाम दिया.

जालसाज रात में एटीएम से रुपए निकालने आए थे. बदमाशों ने एक्सिस बैंक के कार्ड से एटीएम मशीन से 10000 रुपये निकाले. इसके बाद मशीन से रुपए बाहर निकलते ही मशीन की पावर सप्लाई बंद कर दी जिससे मशीन से पैसे तो बाहर निकल गए लेकिन ट्रांजैक्शन इनकंप्लीट दिखा रहा था.

इंदौर सहित कई जिलों में नदियां, बांध उफान पर. इन 21 जिलों में हाई अलर्ट

इसके बाद जालसाज अगले दिन बैंक पहुंचे जहां सुबह उन्होंने 10 हजार रुपये अपने खाते में रिफंड करवा लिए. इसी तरह जालसाज अलग-अलग एटीएम से घटना को अंजाम देते और दोबारा बैंक में जाकर उतनी ही धनराशि रिफंड करवा लेते थे. अगस्त माह में इस घटना की जानकारी हुई.

बैंक ट्रांजैक्शन में यह मामला पकड़ में आया जिसके बाद पुलिस ने जालसाज के खिलाफ कार्रवाई करते हुए हिरासत में ले लिया. जालसाजों से घटना के संबंध में पूछताछ करने के बाद आरोपियों को जेल भेज दिया.

एसबीआई बैंक के मैनेजर ने बताया कि जालसाज कई बार इस तरह की वारदात से बैंक को लाखों रुपए का चूना लगा चुके हैं. जालसाज उसे रिकवरी करने के लिए भी विधिक कार्रवाई की जा रही है जिससे कि दोबारा ऐसी हरकत ना करें.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें