इंदौर: MJ की परीक्षा में कांग्रेस पर पूछा था प्रश्न, कहा भाजपा कर रही राजनीति!

Smart News Team, Last updated: 16/09/2020 01:12 PM IST
  • इंदौर. एमजे की परीक्षा में कांग्रेस की हार सहित सारे सवाल पर उठ रहे सवाल. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी में ओपन बुक एग्जाम सिस्टम.
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर। देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी की मास्टर ऑफ जर्नलिज्म (एमजे) फाइनल ईयर की परीक्षा में पूछे गए सवालों पर प्रश्नचिन्ह उठ रहा है. दरअसल एमजे की वार्षिक परीक्षा के दौरान समसामयिक घटनाओं के आधार पर राजनीतिक दलों को लेकर कई प्रश्न पूछे गए थे, जिसको लेकर विपक्ष निशाना साध रहा है. वहीं पक्ष का कहना है कि समसामयिक घटनाओं में ऐसे ही प्रश्न पूछे जाते हैं. खासकर मीडिया से जुड़े कोर्स पर इस तरह की जानकारी रिपोर्टर्स को होनी जरूरी होती है. तभी वह निष्पक्ष रुप से अपनी राय रख सकते हैं. एनालिसिस ऑफ वरियस नेशनल एंड इंटरनेशनल इशू का पेपर कांग्रेस के सत्ता नहीं मिलने को लेकर सवाल पूछे गए थे.

जिसमें कांग्रेस के सत्ता हासिल नहीं करने के प्रमुख प्रमुख कारणों को स्पष्ट करना था. ओपन बुक एग्जाम सिस्टम से जारी पेपर में पूछे गए तमाम सवाल भाजपा के एजेंडा से जुड़े होने का आरोप है. इनमें कांग्रेस की हार, तीन तलाक, राष्ट्रवाद सभी शामिल हैं.

ये पूछे गए हैं सवाल

1- राष्ट्रवाद बनाम विकास का मुद्दा लोकतंत्र की मजबूती के लिए कितना कारगर है? अथवा विकास और सशक्त छवि के लिए राष्ट्र का सुरक्षित होना जरूरी है- सर्जिकल स्ट्राइक के संदर्भ में इसका विश्लेषण कीजिए.

2- हाफिज सईद को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किए जाने में भारत की कूटनीति की सफलता का विश्लेषण कीजिए. अथवा अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी एवं जीएसटी जैसे फैसलों के प्रभाव को समझाइए।

3- तीन तलाक के फैसले ने मुस्लिम समाज में महिलाओं की स्वतंत्रता सुनिश्चित की है, समझाइए. अथवा 2019 के आम चुनाव में भाजपा की जीत क्या मोदी सरकार पर आम आदमी के भरोसे की मुहर है? समझाइए.

4- देश में एक दलीय व्यवस्था लागू हो सकती है? स्पष्ट कीजिए. अथवा विश्व मंच पर मजबूत हो रहे भारत के प्रति अमेरिकी व्यवहार में क्या बदलाव आ सकते हैं?

5- कांग्रेस को 2014 और 2019 के आम चुनाव में आशातीत विजय नहीं मिलने के कौन से तीन कारण हो सकते हैं? अथवा आरक्षण कितना उपयोगी है? सामान्य वर्ग के गरीबों को 10% आरक्षण दिए जाने से समाज में क्या असर पड़ेगा?

परीक्षा नियंत्रक ने क्या कहा

परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों की जांच की जाएगी यदि वह कोर्स से हटकर होंगे तो रिपोर्ट ली जाएगी. पेपर सेटर से भी जवाब लेंगे.डॉ. अशेष तिवारी, परीक्षा नियंत्रक, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय 

खुशखबरी: इंदौर की प्रमुख योजनाओं पर कैबिनेट की लगी मुहर, जल्दी होगी शुरुआत

सिलेबस और पेपर पैटर्न का होगा मिलान

परीक्षा नियंत्रक का कहना है कि पेपर वह सिलेबस की मिलान की जाएगी प्ले बस में यह समसामयिक घटनाओं पर आधारित राजनीतिक दलों को लेकर प्रश्न पूछने का प्रावधान होगा तो यह तर्कसंगत माना जाएगा. इससे अलग पाए जाने पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी. यदि सिलेबस के अनुसार पेपर सेट नहीं किया गया होगा तो पेपर सेटर को ब्लैक लिस्ट किया जाएगा. 

इंदौर: करोड़ों की ठगी कर फरार स्काईलॉर्क चिटफंड का डायरेक्टर एमपी से गिरफ्तार

कांग्रेस ने परीक्षा के राजनीतिकरण का आरोप लगाया

एमजे की परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों को लेकर कांग्रेस ने विश्वविद्यालय विभाग पर आरोप लगाया है. कांग्रेस ने प्रायोजित तरीके से प्रश्नपत्र तैयार किए जाने का पेपर सेटर पर आरोप लगाया है. उनका कहना है कि यह भाजपा का घोषणा पत्र है ना कि प्रश्नपत्र.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें