हैवानों से बचाने वाले पिता ने अपनी ही बेटी के साथ की दरिंदगी, कोर्ट ने सुनाई सजा

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Jul 2021, 12:36 PM IST
  • पीड़िता की मां ने घर जाकर पति संजय से इस बारे में पूछा तो उसने जान से मारने की धमकी दी. धमकी के डर से वह पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करा सकी. बाद में वह अपने माता-पिता के घर गई और अपने पिता और भाइयों की मदद से शिकायत दर्ज कराई.
इंदौर में आठ साल की मासूम के साथ दुष्कर्म मामले में दोषी को मिली 20 साल की कठोर सजा.

अपराधी बाप को अपनी ही बेटी के साथ दुष्कर्म करने की सजा मिली है. तीसरे अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जितेंद्र कुमार बाजोलिया ने एक व्यक्ति को अपनी 8 वर्षीय बेटी से बलात्कार के लिए 20 साल के कठोर कारावास और 5,000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है. साथ ही कोर्ट ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से बच्ची को सरकारी योजना के तहत मुआवजा दिलाने को कहा है. सीतामऊ निवासी तीस वर्षीय संजय उर्फ ​​संजू सूर्यवंशी को दुष्कर्म का दोषी ठहराया गया है. अभियोजन पक्ष के उप निदेशक बापू सिंह ठाकुर के अनुसार, शिकायतकर्ता ने 17 जुलाई, 2020 को सीतामऊ थाने पहुँचकर यह शिकायत दर्ज कराई गई थी.

अपनी शिकायत में परिवादी ने कहा कि वह सीतामऊ के पास रहती है और एक मजदूर के रूप में काम करती है. उसके दो बच्चे हैं. 16 जुलाई को रात 9 बजे वह अपनी बड़ी बेटी को शौच के लिए पास के जंगल में ले गई, जहां उसकी बेटी ने उसे बताया कि एक दिन पहले पिता ने उसके साथ बलात्कार किया और उसे किसी को ना बताने के लिए कहा.

सरकार इन कर्मचारियों के PF का 24 फिसदी करेगी भुगतान, जानें किसे मिलेगा फायदा

पीड़िता की मां ने घर जाकर पति संजय से इस बारे में पूछा तो उसने जान से मारने की धमकी दी. धमकी के डर से वह पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करा सकी. बाद में वह अपने माता-पिता के घर गई और अपने पिता और भाइयों की मदद से शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर संजय उर्फ ​​संजू सूर्यवंशी को गिरफ्तार कर लिया.

पांच के सिक्के से तेज रफ्तार ट्रेन को रोकने वाले लुटेरे गैंग की जानें कहानी

मामले की जांच उपनिरीक्षक लक्ष्मी सिसोदिया ने तत्कालीन सीतामऊ थाना प्रभारी अमित सोनी के मार्गदर्शन में की. जिन्होंने जांच पूरी करने के बाद आरोपी को अदालत के समक्ष पेश किया. राज्य सरकार की ओर से विशेष लोक अभियोजक नितेश कृष्णन ने इस मामले की पैरवी की.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें