इंदौर: रियल स्टेट कर्मचारी की हत्या का खुलासा, लूट के इरादे से वारदात को दिया था अंजाम

Somya Sri, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 10:40 AM IST
  • इंदौर पुलिस ने रियल स्टेट कर्मचारी की हत्या के मामले में एक किन्नर और उसके 2 साथी बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक इन तीनों ने नशे के हालात में रियल स्टेट कर्मचारी की पहले तो सोने की चेन छीनी फिर चाकू से हमला कर दिया. पुलिस का कहना है कि इन तीनों को पैसे की जरूरत थी. इन्हें भूख लगी थी पर पैसे न होने के कारण इन्होंने इस वारदात को अंजाम दिया.
इंदौर: रियल स्टेट कर्मचारी की हत्या का खुलासा, लूट के इरादे से वारदात को दिया था अंजाम (प्रतिकात्मक फोटो)

इंदौर: इंदौर में बीती बुधवार को देर रात सत्य साईं चौराहा और मुंबई अस्पताल के बीच रियल स्टेट कर्मचारी की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. इंदौर पुलिस ने रियल स्टेट कर्मचारी की हत्या के मामले में एक किन्नर और उसके 2 साथी बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक इन तीनों ने नशे के हालात में रियल स्टेट कर्मचारी की पहले तो सोने की चेन छीनी फिर चाकू से हमला कर दिया. पुलिस का कहना है कि इन तीनों को पैसे की जरूरत थी. इन्हें भूख लगी थी पर पैसे न होने के कारण इन्होंने इस वारदात को अंजाम दिया.

गौरतलब है कि बुधवार रात करीब 1:30 बजे इंदौर के सत्य साईं चौराहा और मुंबई अस्पताल के बीच अरुण नगर रीवा निवासी 26 वर्षीय दिव्यांशु अपने साथी सतीश के साथ स्कूटर से गुजर रहा था. दिव्यांशु महालक्ष्मी नगर में किराए के मकान में रहता था. वह रियल एस्टेट कंपनी फ्यूचर लैंड मार्क में सीनियर सेल्स डायरेक्टर के पद पर था. बुधवार रात वो अपने कर्मचारी सतीश सिंह यादव के साथ स्कूटर से घर लौट रहा था. सत्य साईं चौराहा और मुंबई अस्पताल के बीच दो बदमाश और एक युवती ने दोनों को रोक लिया. बदमाशों ने पहले तो लड़की के लिए लिफ्ट मांगी और कहा कि खजराना रोड छोड़ देना.

बुरी नजर के शक में महिला को निर्वस्त्र कर लात-घूंसों से पीटा, बेरहमी से बाल पकड़कर घसीटा

फिर युवती ने गाड़ी से उतर कर दिव्यांशु के करीब आकर कही कि मुझसे संबंध बनाओगे क्या. युवती ने दिव्यांशु को बातों में उलझा रखा और उसके गले से सोने की मोटी चेन झपट ली. युवती और उसके दो साथी ने दिव्यांशु के हाथ पीठ कान पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर मौके से फरार हो गए. पुलिस के मुताबिक घायल दिव्यांशु को उसके कर्मचारी सतीश ने स्कूटर से रूम तक ले गया और उसे लेटा कर सो गया. सतीश का कहना है कि उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि दिव्यांशु नशे की हालत में था. सतीश का कहना है कि नशे के हालात में दिव्यांशु को अस्पताल ले जाना सही नहीं था इसलिए उसे उसके कमरे में सुला दिया. हालांकि अगली सुबह 8 बजे तक देवांशु की मौत हो चुकी थी.

पुलिस ने बताया कि युवती पहले किन्नर थी और वह ऑपरेशन कराकर महिला बनी है और वो एक शातिर अपराधी है. वह देर रात अपने दो बदमाश दोस्त अल्लू और आलिम के साथ घूम रही थी. इसी दौरान उसने इस घटना को अंजाम दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें