इंदौर: किराए की कार को फर्जी आधार कार्ड से बेचा, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Sun, 13th Sep 2020, 10:58 AM IST
  • इंदौर.पुलिस के मुताबिक 13 फरवरी को चिंतामन मकवाना ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी मारुति विटारा ब्रेजा कार होशंगाबाद के एक युवक ने किराए पर लिया तब से गायब है. इसके बाद पुलिस के कार्यवाही में मामला उजागर हुआ.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर| इंदौर. किराये पर कार लेकर उसे फर्जी आधार कार्ड के जरिये बेचने के मामले में भंवरकुआं पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. थाना प्रभारी इंद्रेश त्रिपाठी ने बताया कि 13 फरवरी को चिंतामन मकवाना ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी मारुति विटारा ब्रेजा कार वाहन संख्या एमपी 09 डब्ल्यू बी 4635 को होशंगाबाद में रहने वाले रोहित वर्मा ने किराये पर ली थी, लेकिन उसके बाद से वह लापता है. रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने जांच किया तो पता चला कि बैंक में नकली सोना रखने के मामले में वह सेंट्रल जेल में बंद है. इस पर उसे प्रोडक्शन वारंट पर इंदौर लाया गया.

आरोपी ने कबूला कि कार को उसने दोस्त नितेश उर्फ मोंटी सनोड़िया को दी थी. वह छिंदवाड़ा में रहता है. टीम वहां पहुंची तो नितेश के भोपाल में रहने की बात सामने आई. जिसके बाद पुलिस टीम ने भोपाल में उसके कटारा हिल्स स्थित घर से उसे गिरफ्तार किया. उसने बताया कि कार उसने दमोह के एक सर्राफा कारोबारी मयंक सोनी को 11 लाख रुपए में बेच दी.

 PILOT ने गहलोत को दिलाई घोषणा पत्र की याद बोले पिछड़ा वर्ग को 5 फ़ीसदी आरक्षण

 इसके बाद पुलिस ने दमोह पहुंचकर मयंक से कार जब्त किया. मयंक ने इस मामले में बताया कि नितेश ने चिंतामन मकवाना बनकर कार बेची थी. इसमें जमानत देने वाले सागर निवासी उसके दोस्त कृष्ण मुरारी पांडेय को भी सह आरोपी बनाया है. पुलिस ने कार व आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की कार्यवाही में जुट गई है. बताया जा रहा है कि ये मनबढ़ किस्म के लोग हैं जो आए दिन किसी न किसी रूप में अपराध को अंजाम देते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें