इंदौर : रात नौ बजे तक खुला रहा आरटीओ, लाइसेंस बनवाने के लिए मची होड़

Smart News Team, Last updated: Sun, 27th Dec 2020, 8:37 PM IST
  • लोग कोरोना काल में खत्म हुए लाइसेंस को 31 दिसंबर तक रिन्यू करवा सकते हैं. इसके बाद उन्हें शुल्क देना होगा. इसी के चलते लगातार भीड़ लग रही है. ऑपरेटरों ने बताया कि सॉफ्टवेयर में अपडेट आने के बाद से सर्वर धीमा हो गया है. जो काम पहले दो मिनट में हो जाता था, उसके लिए कई बार 15 मिनट तक का समय लग जाता है.
इंदौर का आरटीओ कार्यालय

इंदौर. इंदौर के आरटीओ में इन दिनों लाइसेंस बनवाने वाले लोगों में होड़ मची हुई है. रोजाना क्षमता से अधिक लोग आरटीओ पहुंच रहे हैं. आलम यह है कि सिस्टम के धीमे चलने के कारण काम पूरा होने में रात के नौ बज रहे हैं. आरटीओ में आम दिनों में पक्के लाइसेंस के ट्रायल शाम चार बजे तक होते हैं. जो आवेदक पास हो जाते हैं, उनके फोटो और बायोमेट्रिक लिए जाते हैं. इन लोगों को मुख्य भवन में अपनी बारी आने के इंतजार में रुकना पड़ता है.

बीते चार दिनों से यहां लोगों की भी़ड लग रही है. दरअसल, लोग कोरोना काल में खत्म हुए लाइसेंस को 31 दिसंबर तक रिन्यू करवा सकते हैं. इसके बाद उन्हें शुल्क देना होगा. इसी के चलते लगातार भीड़ लग रही है. लाइसेंस के सभी स्लॉट फुल चल रहे हैं. अब लर्निंग और पक्के लाइसेंस बनवाने वालों को नए साल तक का इंतजार करना होगा. शनिवार को भी आरटीओ में लोगों की भीड़ नजर आई. रात नौ बजे तक ट्रायल पास कर चुके लोगों के फोटो और बायोमेट्रिक हुए. स्मार्टचिप कंपनी के ऑपरेटरों ने बताया कि सॉफ्टवेयर में अपडेट आने के बाद से सर्वर धीमा हो गया है. जो काम पहले दो मिनट के भीतर हो जाता था, उसके लिए कई बार 15 मिनट तक का समय लग जाता है. 

इंदौर में नए साल पर बड़ा जश्न नहीं, 50 फीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे कोचिंग सेंटर

ऐसे में देर हो रही है और लोग भी परेशान हो रहे हैं. इधर एजेंटों का कहना है कि स्मार्टचिप कंपनी भी लापरवाही कर रही है. लोगों की भीड़ होने के बाद भी कम काउंटर चालू रहते हैं, जिससे लोग परेशान होते रहते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें