इंदौर: किसान अनुसंधान केंद्र में नौकरी लगवाने के नाम पर महिला से 8 लाख रुपए ठगे

Smart News Team, Last updated: 15/08/2020 01:34 PM IST
  • इंदौर. साल 2019 में अखबार में किसान अनुसंधान केंद्र में नौकरी के लिए क्लासिफाइड देखा और फंस गई. आरोपियों ने रजिस्ट्रेशन और फार्म भरने के नाम पर पीड़िता से पहले कुछ रुपए जमा करवाए.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। भारत सरकार की किसान विकास योजना के तहत किसान अनुसंधान केंद्र में नौकरी लगवाने के नाम पर एक महिला से 8 लाख रुपए की ठगी कर ली गई. महिला से आरोपियों ने 12 अलग-अलग नंबरों से संपर्क कर 8 अलग-अलग बैंक खातों में रुपए डलवाए. जालसाजों ने भारत सरकार के लोगो वाले पत्र भी भेजे. महिला ने इसकी शिकायत डीआईजी को की है.

डीआईजी हरि नारायणचारी मिश्र ने बताया कि घटना शहर की पंत वैध काॅलोनी की रहने वाली 45 साल की महिला के साथ हुई. महिला ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि साल 2019 में उसने एक अखबार में किसान अनुसंधान केंद्र में नौकरी के लिए आवेदन देखा था. इस आवेदन के आधार पर उसमें दिए नंबरों पर संपर्क किए तो ठग गिरोह के लोगों ने उसे झांसे में लेकर अनुसंधान केंद्र में कृषि विकास योजना विभाग में शासकीय अधिकारी के रूप में नौकरी देने के लिए उपयुक्त उम्मीदवार बताया.

यही नहीं उसे हर एक दो दिन की आड़ में करीब 12 मोबाइल नंबरों से अलग-अलग स्तर के अधिकारी बताकर अलग-अलग नाम से संपर्क किए और उसका बायोडेटा व निजी जानकारियां बुलाकर 8 बैंक खातों में करीब 8 लाख रुपए ट्रांसफर करवा लिए.

भारत सरकार के अशोक स्तंभ लगे चिन्ह वाले पत्र भेजे

पीड़िता ने शिकायत में बताया कि उसे आरोपियों ने पहली बार में कुछ व्यवस्थाओं को लेकर रजिस्ट्रेशन व फार्म भरने का बोलकर पहले कुछ हजार रुपए जमा करवाए.

फिर उसे शासकीय कार्यालयों में अशोक स्तंभ लगे चिन्हों वाले पत्रों पर नियुक्ति होने और विभागीय प्रक्रिया में नौकरी का मामला चलने का उल्लेख करने वाले पत्र भी उसे भेजे गए.

इससे वह ठग गिरोह के बदमाशों के विश्वास में आ गई और अपने गोल्ड लोन के रुपए, पति के खाते से रुपए व सेविंग बैंक खाते के रुपए भी उन्हें उनके दिए अकाउंट नंबरों पर ट्रांसफर कर दिए. जालसाजों ने महिला की सारी जमा पूंजी उड़ा ली.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें