इंदौर: उधारी न चुकाने पर सिक्योरिटी गार्ड की हुई हत्या, पुलिस ने किया खुलासा

Smart News Team, Last updated: 24/08/2020 05:12 PM IST
  • इंदौर में 36 घण्टे में क्राइम ब्रांच व पुलिस ने किया हत्या का पर्दाफाश, दोस्त ही निकला सिक्योरिटी गार्ड का हत्यारा. मृतक ने लिए थे 7 हजार रुपए उधार, लेनदेन के लिए कहासुनी पर हुई हत्या. मनोरमागंज में हुए गार्ड रामबाबू राजपूत के अंधेकत्ल का 36 घण्टे के अंदर हुआ खुलासा.
सेक्युरिटी गार्ड का कातिल

इंदौर. मध्यप्रदेश के इंदौर में अपराधों के मामले के बढ़ते ग्राफ को रोकने की कोशिश में अब पुलिस तेजी से काम करने की कोशिश कर रही है. दरअसल, लॉक डाउन की समाप्ति के बाद इंदौर में चोरी , लूट और हत्या की वारदातों में तेजी आ गई थी जिसका अंदेशा पुलिस प्रशासन ने भी जताया था. लेकिन अब पुलिस हर मामले की पड़ताल में पहले ज्यादा गंभीरता और तेजी से काम कर रही है और इसी का परिणाम है दो दिन पहले इंदौर के पलासिया थाना क्षेत्र में सिक्योरिटी गार्ड की हत्या का पर्दाफाश क्राइम ब्रांच और पलासिया पुलिस ने महज 36 घण्टे में कर दिया है. 22 तारीख को हुई घटना के बाद हत्या के मामले में क्राईम ब्रांच इंदौर व थाना पलासिया पुलिस की संयुक्त टीम ने कार्यवाही करते हुए मनोरमागंज में हुए गार्ड रामबाबू राजपूत के मर्डर का 36 घण्टे के अंदर खुलासा कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. 

जानकारी के मुताबिक आरोपी भी सिक्यूरिटी गार्ड है और वह मृतक का दोस्त था। पुलिस की माने तो लॉक डाउन दौरान मृतक ने आरोपी महेश कैथवास से 7 हजार रुपए उधार लिए थे और रूपयों के लेन देन को लेकर हुई कहासुनी में आरोपी महेश केथवास ने डंडे व चाकू से वार कर रामबाबू की हत्या कर डाली. मृतक उधारी के रूपये लौटाने से इनकार कर रहा था इंकार जिसके बाद हुए विवाद में आरोपी ने अपने ही दोस्त को मौत के घाट उतार दिया। बता दे कि पूर्व से परिचित थे आरोपी व मृतक सिक्योरिटी गॉर्ड का काम करते थे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें