इंदौर: कोरोना पॉजिटिव पुलिसकर्मियों में दुबारा प्रोत्साहन भर रही हैं ये लड़कियां

Smart News Team, Last updated: 19/09/2020 10:31 AM IST
  • एक ओर जहां पुलिस जवानों का बड़ी संख्या में कोरोना की चपेट में आने से मनोबल टूटने लगा, वहीं ये पांच छात्राएं दोबारा उनमें ऊर्जा का संचार कर रही हैं.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। कोरोना वॉरियर्स की हिम्मत बढ़ाने के लिए जो छात्राएं सामने आई हैं. वे बेशक देख पाने में असमर्थ हैं, लेकिन अपनी सकारात्मक सोच का नजरिया दे रही हैं। एक ओर जहां पुलिस जवानों का बड़ी संख्या में कोरोना की चपेट में आने से मनोबल टूटने लगा, वहीं ये पांच छात्राएं दोबारा उनमें ऊर्जा का संचार कर रही हैं।

दिव्यांग छात्राएं रेणुका कुशवाह, नाजिया खान, कश्मीरा अंसारी, मीरा उइके और गीता डुडवे अपनी गायकी, कविता और स्वरचित रचना से कोरोना वॉरियर्स की हिम्मत बढ़ाने का प्रयास उन्हीं के बीच जाकर कर रही हैं। हाल ही में इन पांचों ने एसपी ऑफिस और पलासिया स्थित न्यू पुलिस कंट्रोल रूम में अपनी रचनाएं प्रस्तुत की और उन्हें पुलिस के वायरलेस सेट पर प्रसारित भी किया गया।

किसी शायर ने बहुत खूब लिखा है कि 'मंजिल न दे, चिराग न दे हौसला तो दे...।' इस बात का मर्म शहर के अनुभूति विजन सेवा संस्थान की छात्राओं ने बखूबी समझा और सकारात्मकता का नजरिया देने निकल पड़ीं हौसलों की लौ जलाने.

जानकारी के अनुसार बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा रेणुका ने तो 'जिद' शीर्षक लिए कविता भी रच डाली जिसमें अपनी जिद से विषम परिस्थति को भी अपने अनुकूल बनाने की बात है। उनकी इस कविता की पंक्तियां 'मुश्किल के इस वक्त में हमें नहीं है घबराना, कोरोना है देश में हम सबको मिलकर है इसे हराना' बहुत पसंद भी की जा रही है। कक्षा पांचवीं की छात्रा नाजिया व मीरा, कक्षा छठी की गीता और कक्षा सातवीं की छात्रा कश्मीरा देशभक्ति के तराने और कविताएं सुनाकर कोरोना वॉरियर्स की हिम्मत बढ़ा रही हैं।

इंदौर: 60 हजार छात्रों को पढ़ाने वाले सरकारी शिक्षकों की होगी मॉनिटरिंग, जाने वजह

चंचल सलारिया, संस्थापक अनुभूति विजन सेवा संस्थान का कहना है कि संस्थान की इन विद्यार्थियों ने ये रचनाएं लॉकडाउन के दौरान तैयार की थीं. हम अपनी मर्जी से तो शासकीय कार्यालयों में प्रस्तुति देने नहीं जा सकते, लेकिन कोई हमें अनुमति देता है तो हम बच्चों को वहां प्रस्तुतियां दिलाने ले जाते हैं. चूंकि शासकीय कार्यालयों में अनुमति का इंतजार रहता है, इसलिए हम अभी इन प्रतिभाओं की रचनाएं सोशल मीडिया पर भी अपलोड कर रहे हैं.वर्तमान में विद्यार्थी और भी रचनाएं तैयार कर रहे हैं ताकि हौसला अफजाई की इस कोशिश को और भी आगे बढ़ाया जा सके।

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें