इंदौर में थमे ट्रकों के पहिए, नही खुलीं ट्रांसपोर्ट से जुड़ी ऑफिस व दुकानें

Smart News Team, Last updated: 11/08/2020 10:23 AM IST
  • डीजल की कीमतें कम करने, रोड टैक्स में छूट और आरटीओ अवैध वसूली के खिलाफ आज से ट्रकों का 3 दिनों का चक्का जाम शुरू हुआ. जिसके चलते इंदौर में भी इसका खासा असर दिखाई दे रहा है. इंदौर की सड़कों पर ट्रकों की आवाजाही पूरी तरह बंद है.
ट्रक फ़ाइल फ़ोटो 

राज्य की ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन द्वारा प्रदेश भर में ट्रकों के हड़ताल का फैसला लिया गया है. ट्रकों के पहिए आज से 12 अगस्त तक नहीं चलेंगे. जिसका असर इंदौर में भी देखने को मिल रहा है. इंदौर की सड़कों पर ट्रकों की आवाजाही पूरी तरह बंद है. तो वहीं ट्रांसपोर्ट से जुड़ी दुकानें और कार्यालय भी बंद है. प्रतिदिन बड़ी संख्या में इंदौर से ट्रकों की आवाजाही होती है. लेकिन आज सुबह से ही ट्रकों के पहिए थमे दिखाई दे रहे हैं. इस हड़ताल का असर सब्जी मंडी में आने वाले ट्रकों के साथ ही अन्य मंडी में रोज आने वाले अन्य सामानों के ट्रकों पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है. 

हांलाकि आवश्यक वस्तुओं से जुडे परिवहन को हड़ताल से अलग रखा गया है. राज्य की ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन मांग की है कि सरकार डीजल पर वेट कम करे. कोरोना लॉकडाउन के चलते आर्थिक मंदी के हालात हैं. जिसके चलते रोड टैक्स और टोल टैक्स में छूट दी जाए. मध्य प्रदेश परिवहन विभाग के कर्मचारी चेक पोस्टों पर अवैध वसूली कर रहे हैं, उन्हें रोका जाए. साथ ही ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने चेतावनी दी है कि यदि 3 दिनों तक सरकार ने उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया तो उनका आंदोलन और तेज होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें