इंदौर: दो हजार खाद्य व्यापारियों को किया जाएगा प्रशिक्षित, कार्ययोजना लगभग पूरी

Smart News Team, Last updated: 19/09/2020 01:15 PM IST
  • इंदौर. देश के 197 जिलों के बीच गुणवत्तापूर्ण और साफ-सुथरे खाने को लेकर भी ऐसी ही स्पर्धा शुरू की है. इसमें ईट राइट कैंपस और ईट राइट स्कूल के तहत आईआईटी, आईआईएम, एसजीएसआईटी सहित जिले के 150 शिक्षण संस्थानों को भी शामिल किया गया है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसआई) ने देश के 197 जिलों के बीच गुणवत्तापूर्ण और साफ-सुथरे खाने को लेकर भी ऐसी ही स्पर्धा शुरू की है. इसमें मध्यप्रदेश के नौ जिले (इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन, रीवा, सागर, शहडोल, मुरैना) हिस्सा ले रहे हैं. इंदौर ने इसके लिए कार्ययोजना लगभग तैयार कर ली है. इसमें ईट राइट कैंपस और ईट राइट स्कूल के तहत आईआईटी, आईआईएम, एसजीएसआईटी सहित जिले के 150 शिक्षण संस्थानों को भी शामिल किया गया है, जहां विद्यार्थियों में सही और साफ-सुथरे खाने को लेकर जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाएगा.

वही खाद्य और औषधि प्रशासन के अधिकारियों ने इंदौर की कार्ययोजना कलेक्टर मनीष सिंह को सौंप दी है. अपर कलेक्टर अभय बेडेकर कार्ययोजना को अंतिम रूप देकर दो-तीन दिन में एफएसएसएआई को दिल्ली भेजेंगे. इस स्पर्धा में विभिन्ना तरह की गतिविधियों पर अंक दिए जाएंगे.कार्ययोजना में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और एएनएम को प्रशिक्षण देना भी शामिल है।

इसके बाद वे बच्चों और महिलाओं के बीच शुद्ध और स्वच्छ भोजन, फल, सब्जी आदि खाने की समझ विकसित करेंगी। उन्हें तेल और नमक कम खाने के बारे में बताया जाएगा। खाद्य सामग्री बनाने और बेचने वाले व्यापारियों, होटल, रेस्त्रां संचालकों आदि को भी प्रशिक्षण दिया जाएगा कि शुद्ध और साफ खाद्य सामग्री बेचना और बनाना क्यों जरूरी है। इससे उनके व्यापार पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और विश्वसनीयता बढ़ेगी।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें