कोरोना को लेकर जागरुकता फैलाने का अनोखा तरीका, हवलदार ने लिया यमराज का रूप

Smart News Team, Last updated: Sun, 11th Apr 2021, 8:08 PM IST
  • इंदौर में लॉकडाउन के दौरान एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने यमराज का रूप लेकर लोगों के बीच कोविड-19 के बारे में जागरुकता फैलाई. उन्होंने इस रूप के माध्यम से लोगों के बीच संदेश पहुंचाया कि कोरोना प्रतिबंधों का पालन न करने वालों को यमराज ले जाएगा.
कोरोना को लेकर जागरुकता फैलाने का अनोखा तरीका, हवलदार ने लिया यमराज का रूप

इंदौर. इंदौर में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए एक हवलदार ने यमराज का रूप ले लिया. दरअसल इंदौर में शनिवार को 60 घंटे के लॉकडाउन की शुरूआत हुई. इस दौरान पुलिस ने लोगों को कोरोना प्रतिबंधों के बारे में जानकारी दी. जिससे कोरोना के बढ़ते मामलों को रोका जा सके. साथ ही पुलिस ने लॉकडाउन को लेकर लोगों के बीच जागरुकता फैलाने के लिए भी कई उपाय किए. इस बीच एक हवलदार ने यमराज का रूप लेकर जागरुकता फैलाने का अनोखा तरीका अपनाया. इस रूप के माध्यम से उन्होंने लोगों को बताया कि कोरोना प्रतिबंधों का पालन न करने पर उन्हें यमराज ले जाएगा.

मध्य प्रदेश में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखकर राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी शहरों में लॉकडाउन लगाने का फैसला किया. इस लॉकडाउन की अवधि राज्य सरकार ने शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार की सुबह 6 बजे तक तय की. इस दौरान एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने लोगों के बीच कोरोना के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए यमराज के रूप में कपड़े पहन लिए. यमराज को मौत का पौराणिक देवता कहा जाता है. यमराज के रूप में तैयार होकर हवलदार ने सड़कों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल पर संदेशों को लोगों तक पहुंचाया.

अगर आप भी अनचाहे SMS से हैं परेशान तो रोकने के लिए करना होगा यह काम

यमराज की पोशाक में तैयार हुए हेड कॉन्स्टेबल जवाहर सिंह जादौन ने अपने इस रूप के बारे में बताया कि उन्होंने कोविड-19 के बारे में लोगों को जागरुक करने के लिए इसे पहना है. इस रूप के माध्यम से वे लोगों को एहसास दिलाना चाहते है कि कोरोना के दिशा-निर्देशों का पालन करने में विफल होने से उन्हें जान का खतरा हो सकता है. बता दें कि इससे पहले मार्च में भी कोरोना के मामलों में बढ़त देखकर इंदौर, भोपाल समेत कई शहरों में तालाबंदी की गई थी.

कल तक निपटा लें अपने बैंकिंग संबंधी काम, मंगलवार से कई दिनों तक बैंक रहेंगे बंद

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें