फर्जी बिल और टैक्स क्रेडिट कंपनियों की जारी हुई लिस्ट, इंदौर की 22 फर्मों के नाम

Smart News Team, Last updated: 01/12/2020 10:12 PM IST
  • इंदौर फर्जी बिल बनाने और झूठे इंपुट देकर टैक्स क्रेडिट पाने के आरोप में 22 फर्मों, कारोबारियों और कंपनियों का नाम सामने आया है. डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ एनालिटिक्स एंड रिस्क मैनेजमेंट (डीजीएआरएम) ने देशभर की ऐसी कंपनियों, फर्मों और कारोबारियों की सूची जारी की है.
इंदौर फर्जी बिल बनाने और झूठे इंपुट देकर टैक्स क्रेडिट पाने के आरोप में 22 फर्मों का नाम आया सामने

इंदौर: इंदौर फर्जी बिल बनाने और झूठे इंपुट देकर टैक्स क्रेडिट पाने के आरोप में 22 फर्मों, कारोबारियों और कंपनियों का नाम सामने आया है. डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ एनालिटिक्स एंड रिस्क मैनेजमेंट (डीजीएआरएम) ने देशभर की ऐसी कंपनियों, फर्मों और कारोबारियों की सूची जारी की है. फर्जीवाड़ा कर रही कुल 9,757 फर्मों और कारोबारी संस्थानों के नाम केंद्र और राज्य के जीएसटी विभागों को भेजकर इनके रिटर्न की बारीकी से जांच करने और निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं.

बता दें, डीजीएआरएम की ओर से केंद्रीय जीएसटी विभाग को विभागीय पत्र के रूप में ऐसी संदिग्ध कंपनियों और फर्मों की सूची भेजी गई थी. डीजीएआरएम की यह सूची सोशल मीडिया पर लीक होने के बाद सार्वजनिक हो गई है. जीएसटी विभागों को निर्देश दिया गया है कि ऐसी ज्यादातर कंपनियों फर्मों ने जीएसटी के थ्री-बी रिटर्न या तो जमा नहीं किए या फिर शून्य सप्लाय के रिटर्न जमाकर फर्जीवाड़ा कर रही है. संदिग्ध फर्मों से जुड़े टैक्स क्रेडिट प्रकरण आने से पहले हर रिटर्न और बिल आदि का भौतिक सत्यापन भी किया जाए.

एक्टिव मोड में नजर आए तुलसी सिलावट, बोले-कोरोना को लेकर अभी सुधार की जरूरत

मामले में इंदौर के जीएसटी विभाग का कहना है समय-समय पर डीजीएआरएम ऐसे संदिग्ध संस्थानों की सूचना विभागों को भेजता रहता है. हालांकि यह पहली बार है जब विभागों के लिए भेजा गया आंतरिक पत्र लीक होकर सार्वजनिक हो गया है. विभागीय सूत्रों के मुताबिक अब तक ऐसी 100 से ज्यादा फर्मों का पता लगाया जा चुका है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें