इंदौर में बना एशिया का सबसे बड़ा BIO CNG प्लांट, PM मोदी आज करेंगे लोकार्पण

Sumit Rajak, Last updated: Sat, 19th Feb 2022, 1:24 PM IST
  • देश में सफाई के मामले में इंदौर लगातार टॉप पर रहा है. अब एक और मामले में इंदौर मिसाल बनने जा रहा है. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां एशिया के सबसे बड़े सीएनजी प्लांट का उद्घाटन करने वाले हैं. इस प्लांट में कचरे से बायो गैस बनाई जाएगी. इसका उद्घाटन वर्चुअली किया जाएगा.
फाइल फोटो

इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर में बने एशिया के सबसे बड़े बायो सीएनजी प्‍लांट का लोकार्पण आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे. शनिवार दोपहर 1 बजे वर्चुअली लोकार्पण करेंगे. इसे गोबरधन प्‍लांट का नाम दिया गया है. 100 एकड़ वाले ट्रेंचिंग ग्राउंड में 15 लाख मीट्र‍िक टन कचरे होते थे. गैस बनने के वजह से यहां आग लग जाती थी और आग का धुआं लोगों को परेशान करता थी. इस ग्राउंड में अब कचरा प्रोसेसिंग यूनिट लगाई गई है. अब लोगों को धुएं और बदबू से आजादी मिलेगी. कचरा प्रोसेसिंग यूनिट लगने से शहर को बड़ी राहत मिलेगी. 

इस प्रोजेक्‍ट को इंदौर क्‍लीन एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा शुरू किया गया है. इससे इंदौर नगर निगम और इंडो एनवायरो इंटीग्रेटेड सॉल्‍यूशन लिमिटेड  भी जुड़े हुए हैं. गोबर-धन प्‍लांट में जितनी भी सीएनजी तैयार होगी उसमें से 50 फीसदी तक इंदौर नगर निगम खरीदेगा. इसी खरीद से इंदौर में 400 बसों को चलाया जाएगा. उन्‍हें यहां से ईधन मिलेगा. हालांकि इस काम में काफी बिजली लगेगी, लेकिन इसमें आने वाले खर्च को कम करने के लिए सोलर पैनल का सहारा लिया जाएगा. धीरे-धीरे इन पैनल्‍स की संख्‍या को बढ़ाया जाएगा.

इंदौर में खुलेआम चल रही थी हुक्का पार्टी, नेता और कारोबारियों के बेटे सहित 5 युवक गिरफ्तार

यहां पर गीले कचरे से रोजाना 550 टन बायो सीएनजी बनेगी. इस प्‍लांट के बनने के बाद इंदौर अब कचरे से कुल 16.5 करोड़ रुपए की कमाई करेगा.मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस बायो सीएनजी प्‍लांट में 18 हजार यूनिट बिजली लगेगी. इस बिजली की 20 फीसदी तक पूर्ति सोलर एनर्जी से होगी. प्‍लांट में सोलर पैनल लगाए जाएंगे. करीब एक से डेढ़ साल के अंदर प्‍लांट को पूरी तरह से सोलर एनर्जी से चलाए जाने की योजना बनाई गई है. हालांकि शुरुआती दौर में इसे बिजली पर निर्भर रहना होगा.

HT की रिपोर्ट के मुताबिक, इस बायो सीएनजी प्‍लांट से पर्यावरण को भी कई तरह से राहत मिलेगी. कचरे की प्रोसेसिंग के कारण ग्रीन हाउस गैसों के उत्‍सर्जन में कमी आएगी. ग्रीन एनर्जी बढ़ेगी. पीएमओ ऑफिस की ओर से जारी जानकारी के मुताबिक, यहां ऑर्गेन‍िक कम्‍पोस्‍ट तैयार होगा, जिसका फर्टिलाइजर के तौर पर खेतों में प्रयोग किया जा सकेगा. इस तरह इससे कई तरह के फायदे होंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें