जुड़वां बेटी होने पर ऐसा जश्न कि देखते रह गए लोग, ढोल नगाड़ों संग रथ पर घर आई बहू

Swati Gautam, Last updated: Sun, 16th Jan 2022, 9:43 PM IST
  • मध्यप्रदेश के धार जिले में जुड़वा बेटियां होने पर पति और ससुराल वालों ने ऐसा स्वागत किया कि सभी लोग देखते रह गए. बहू और दोनों बेटियों को मायके से ससुराल तक रथ पर बैठकर लाया गया. ऊपर से फूलों की बरसात हो रही थी तो रथ के आगे डीजे और ढोल बज रहे थे जिसके साथ-साथ परिवार वाले नाचते हुए जा रहे थे.
जुड़वां बेटी होने पर ढोल नगाड़ों संग रथ पर घर आई बहू

इंदौर. जहां एक तरह आज भी कुछ लोगों की सोच बेटियों के लिए बदली नहीं है. आज भी भ्रूण हत्या के मामले देखने को मिलते हैं, लोग बेटियों को बोझ मानते है या बेटी का जन्म होने पर मुंह सिकोड़ते हैं. वहीं दूसरी और मध्य प्रदेश के एक परिवार ने बेटी पैदा होने पर ऐसा जश्न मनाया जिसे पूरा शहर देखता रह गया. दरअसल धार जिले के कोणदा गांव में भायल परिवार की बहू ने गणेश चतुर्थी के दिन अपने मायके में जुड़वा बेटियों को जन्म दिया था. बेटियों को जनने के बाद बहू ससुराल नहीं आई थी. खरमास खत्म होने के बाद बहु और दोनों जुड़वा बेटियों के स्वागत के लिए ससुराल वालों ने बैंड-बाजे और डीजे के साथ नगर में 2 किमी दूर तक जुलूस निकाला और जुड़वा बेटियों के साथ बहू को ससुराल के लोग रथ पर बैठकर घर लाए.

जब बहू और दोनों जुड़वा बेटियों रथ पर बैठ कर पहली बार घर प्रवेश करने जा रही थीं तो लोग छतों पर और गलियों में खड़े होकर परिवार की खुशियों को देख रहे थे. एक रथ पर दो महिलाएं सवार थी जिनकी गोद में दोनों जुड़वा बच्चियां थीं. ऊपर से फूलों की बरसात हो रही थी तो रथ के आगे डीजे और ढोल बज रहे थे जिसके साथ-साथ परिवार वाले नाचते हुए जा रहे थे. दादा जगदीश भायल और बेटियों के पिता मयूर भायल की खुशी देखने लायक थी. पूरा शहर परिवार की इस भव्य तैयारियों को देखता रह गया.

MP: पतंग बनी काल, युवक की तालाब में गिरकर डूबने से हुई मौत

जुड़वा बेटियों का घर में अनोखे तरीके से स्वागत के लिए मनाए गए जश्न का कारण पूछने पर बेटियों के पिता जगदीश भायल ने बताया कि मेरी एक साथ दो बेटियां आई है वह भी जुड़वा मैं भाग्यशाली हूं, जो लोग बेटियों को गर्भ में मार रहे हैं इसके लिए शासन व सरकार लोगों को जागरूक करती है. मेरे घर एक साथ दो बेटियां आई तो मैंने इस खुशी को एक संदेश देने के लिए यह किया. क्योंकि बेटी है तो कल है दोनों बेटियों को मैं उच्च शिक्षित करूंगा. परिवार की बेटियों के प्रति इस खुशी और सोच को देखते हुए सभी लोग हैरान हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें