इंदौर में कोरोना वैक्सीन के दो डोज लेने के बाद ही मिलेगा दूध, सैलून और रेस्तरां में प्रवेश

Somya Sri, Last updated: Thu, 11th Nov 2021, 10:56 AM IST
  • इंदौर में दूध आपूर्ति करने वाले संगठन, सैलून, रेस्तरां और बार ने घोषणा की है कि वह केवल उन्हीं ग्राहकों को अपनी सेवाएं देंगे जिन्होंने कोरोना के दोनों डोज लगवा चूके हैं. इंदौर के ये सभी बिजनेस संगठनों ने मिलकर यह अभियान 30 नवंबर से शुरू करने का फैसला किया है. साथ ही बैंक, कॉलेज और अस्पताल प्रशासन भी इस पहल में शामिल हुए हैं. यानी जिन्हें पूरी तरह से टीका नहीं लगाया गया है उन्हें अनुमति नहीं दी जाएगी.
इंदौर में कोरोना वैक्सीन के दो डोज लेने के बाद ही मिलेगा दूध, सैलून और रेस्तरां में प्रवेश (फाइल फोटो)

इंदौर: मध्य प्रदेश के इंदौर में कई संगठनों ने ये फैसला किया है कि उन लोगों को सेवाएं नहीं दिए जाएंगे जिन्होंने अब तक कोरोना के दोनों डोज नहीं लगवाएं हैं. इंदौर में दूध आपूर्ति करने वाले संगठन, सैलून, रेस्तरां और बार ने घोषणा की है कि वह केवल उन्हीं ग्राहकों को अपनी सेवाएं देंगे जिन्होंने कोरोना के दोनों डोज लगवा चूके हैं. इंदौर के ये सभी बिजनेस संगठनों ने मिलकर यह अभियान 30 नवंबर से शुरू करने का फैसला किया है. जिसके तहत ग्राहकों को कोरोना के दोनों डोज के पहले प्रमाण पत्र पहले प्रस्तुत करना होगा. जिसके बाद ही उन्हें दूध मिलेगा. साथ ही सैलून, रेस्टोरेंट और बार में जाने की अनुमति मिलेगी.

इंदौर के जिला मजिस्ट्रेट मनीष सिंह ने कहा कि, अब तक 9.49 लाख लोगों ने अपनी दूसरी खुराक नहीं ली है. बुधवार को हमने विभिन्न संघों को बुलाया और उन सभी ने सख्ती सुनिश्चित करने का फैसला किया. उन्होंने 30 नवंबर को समय सीमा के रूप में दिया है. जिसके बाद वे कोविड 19 टीकाकरण प्रमाण पत्र देखने के बाद ही सेवाएं प्रदान करेंगे. उन्होंने कहा, “ये विभिन्न संघ कोरोना टीकाकरण के बारे में लोगों को प्रेरित करेंगे और जागरूक करेंगे."

भोपाल अस्पताल हादसे के बाद इंदौर नगर निगम की कार्रवाई, 54 अस्पतालों को नोटिस जारी

उन्होंने आगे बताया कि बैंक, कॉलेज और अस्पताल भी इस पहल में शामिल हुए हैं. यानी जिन्हें पूरी तरह से टीका नहीं लगाया गया है उन्हें अनुमति नहीं दी जाएगी. बता दें कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, मध्य प्रदेश में अब तक कुल 7,21,94,819 कोविड -19 वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है, जिसमें 5,00,19,724 पहली खुराक थी. जबकि राज्य में अब तक केवल 2,21,75,095 ही सेकेंड डोज दिए गए हैं.

बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के औरंगाबाद से भी ऐसी ही खबर सामने आई थी. औरंगाबाद में भी उन्हीं लोगों को राशन, पेट्रोल , डीजल दिया जा रहा है जिन्होंने कोरोना के दोनों डोज लगवा लिए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें