कोरोना संकट के बीच MP के हजारों जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर, ये हैं मांग

Smart News Team, Last updated: Mon, 31st May 2021, 7:29 PM IST
  • कोविड के बीच एमपी के 3 हजार जूनियर डाॅक्टर सोमवार से हड़ताल पर चले गए हैं. उनकी सरकार से मांग है कि उनके वेतन में बढ़ोतरी और कोरोना संक्रमित होने पर उनका और उनके परिजनों का फ्री में इलाज किया जाए.
कोरोना संकट के बीच हड़ताल पर गए हजारों डॉक्टर

इंदौर. कोरोना संक्रमण के बीच मध्य प्रदेश के लगभगग 3 हजार जूनियर डाॅक्टर सोमवार को हड़ताल पर चले गए हैं. डाॅक्टरों की एमपी की शिवराज सरकार से 6 मांगे हैं. जिनमें वेतन बढ़ाना, कोरोना संक्रमित होने पर उनका और उनके परिजनों का फ्री में इलाज करने की मांग शामिल है. जूनियर डाॅक्टरों ने चेतावनी दी है कि अगर शाम तक मांगे नहीं मानी गईं तो 1 जून से कोविड 19 ड्यूटी भी बंद कर देंगे.

इस बारे में मध्य प्रदेश जूनियर्स डाॅक्टर्स एसोसिएशन जूडा के अध्यक्ष अरविंद मीणा ने कहा कि प्रदेश के 6 मेडिकल काॅलेज से संबद्ध जूडा के सदस्य सोमवार से हड़ताल पर हैं. जिससे जूनियर डाॅक्टर ओपीडी, आईपीडी और दूसरे वार्डों में काम नहीं कर रहे हैं.

इंदौर में ब्लैक फंगस के इलाज में उपयोगी इंजेक्शन का होगा उत्पादन, मरीजों को राहत

जूडा ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आज शाम तक सरकार की ओर से हमारी मांगों पर लिखित आदेश जारी नहीं किया जाता है तो 1 जून से कोविड 19 ड्यूटी भी बंद करने के लिए मजबूर होंगे. जूडा ने दावा करते हुए कहा कि सरकार ने 24 दिन पहले उनकी मांगों को पूरा करने का वायदा किया था लेकिन तब से इस मामले में कुछ नहीं हुआ है.

मिली जानकारी के अनुसार, जूनियर डाॅक्टर जिन 6 मांगों को लेकर हड़ताल पर गए हैं. उनमें वेतन की बढ़ोतरी, कोविडड में काम करने वाले डाॅक्टरों और उनके परिजनों के लिए इला की अलग व्यवस्था और कोविड ड्यूटी को एक साल की अनिवार्य ग्रामीण सेवा मानकर बांड से फ्री करना शामिल है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें