इंदौर में प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, महालक्ष्मी समेत आठ मंदिरों पर किया नियंत्रण

Smart News Team, Last updated: 14/10/2020 08:21 PM IST
  • इंदौर में प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शहर के आठ मंदिरों पर अपना कब्जा कर लिया है. जिसमें सत्यनारायण और महालक्ष्मी मंदिर शामिल हैं.
देवी अहिल्याबाई होलकर चैरिटेबल ट्रस्ट के आठ मंदिरों की संपत्ति पर शासन ने कब्जा कर लिया

इंदौर: में प्रशासन ने हाल ही में बड़ा फैसला लिया है. दरअसल, मंगलवार को शहर में स्थित खासगी (देवी अहिल्याबाई होलकर चैरिटेबल) ट्रस्ट के आठ मंदिरों की संपत्ति पर शासन के अलग-अलग दलों ने कब्जा कर लिया. बिजासन मंदिर में प्रशासन की ओर से पहले से दो दानपेटी लगी हुई है, लेकिन मंदिर में पुजारियों की तरफ से एक और दानपेटी रखी गई थी जिसे प्रशासन ने सील कर दिया गया. वहीं मंदिर के बाहर भी दो पेटियां पुजारियों ने रखी हुई थीं, जिसे प्रशासन ने सील करना चाहा. लेकिन पुजारियों के विरोध करने पर प्रशासनिक अधिकारी उन्हें सील नहीं कर पाए.

वहीं, प्रशासनिक दल ने आड़ा बाजार के सत्यनारायण मंदिर पहुंचकर कब्जा लिया. यहां भगवान विष्णु और देवियों के चांदी के छह मुकुट मिले. इसके अलावा कानों के अन्य आभूषण भी पाए गए. कब्जा लेने से पहले सभी सामग्री का पंचनामा बनाया और मंदिरों में शासन की संपत्ति होने का बोर्ड भी लगाया. बता दें, राजवाड़ा स्थित महालक्ष्मी मंदिर पर भी कब्जा लेने की कार्रवाई की गई. यह कार्रवाई संयुक्त कलेक्टर और एसडीएम राजेश राठौर के नेतृत्व में राजस्व निरीक्षकों और पटवारियों के दलों ने पूरी की.

सेक्स रैकेट के चंगुल से निकली लड़कियों ने किया खुलासा नौकरी के बहाने लाए थे भारत

इससे पहले कृष्णपुरा में पट्टाभिराम मंदिर, छत्रीबाग बारादरी में श्रीराम मंदिर, सुभाष मार्ग पर मारुति मंदिर, बाणेश्वर कुंड के श्रीराम मंदिर और कृष्णपुरा में संगमेश्वर महादेव मंदिर को प्रशासन द्वारा कब्जा लिया गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें