बेरोजगार ने सुसाइड नोट का Video भेजा, पुलिस संग बीवी ने ऐसे जान बचाई, नौकरी मिली

Ruchi Sharma, Last updated: Tue, 7th Dec 2021, 12:45 PM IST
  • इंदौर के एक युवक ने भी नौकरी न होने की वजह से आत्महत्या जैसा बड़ा कदम उठाने का फैसला लिया. युवक ने आत्महत्या से पहले वीडियो बनाया और पत्नी के मोबाइल पर भेज दिया. पत्नी ने इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस ने लोकेशन ट्रेस किया और युवक की जान बचाई. यहां तक की युवक की नौकरी भी लगवाई.
नौकरी छूटने से दुखी युवक जा रहा था आत्महत्या करने

इंदौर. कहते हैं बेरोजगारी की सबसे बड़ा अपमान और अपशब्द होता है. जहां समाज आप को नकारा समझने लगता है. देश में आज बेरोजगारी लाखों युवाओं की परेशानी बन गई है. हम अक्सर खबरों में पढ़ते हैं कि बेरोजगारी से परेशान युवक ने आत्महत्या कर ली. ऐसा ही इंदौर में हुआ जहां एक युवक ने भी नौकरी न होने की वजह से आत्महत्या जैसा बड़ा कदम उठाने का फैसला लिया. युवक ने आत्महत्या से पहले वीडियो बनाया और पत्नी के मोबाइल पर भेज दिया. परेशान पत्नी ने इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस ने बिना देर किए लोकेशन ट्रेस किया और युवक की जान बचाई. खास बात यह है कि उसकी नौकरी भी लगवाई.

यह मामला इंदौर के खजराना थाना क्षेत्र का है. खजराना क्षेत्र में रहने वाला युवक पेशे से ड्राइवर है. कुछ दिन पहले उसकी नौकरी छूट गई थी. उसके सामने घर चलाने का संकट खड़ा हो गया. बच्चियों के स्कूल की फीस तक नहीं भर पा रहा था. युवक काफी तनाव में था. जिसके चलते वह शनिवार को घर से चला गया और वीडियो बनाकर घरवालों को भेजा दिया. युवक ने वीडियो पर आत्महत्या करने जाने की बात कही. उसकी पत्नी ने जब वीडियो देखा तो घबरा गई और रोते हुए पुलिस के पास पहुंची. जिसके बाद तत्काल प्रभाव से पुलिस युवक तक पहुंच गई.

साइबर टीम ने किया ट्रेस

जानकारी के मुताबिक साइबर टीम की मदद से युवक के मोबाइल नंबर के आधार पर लोकेशन ट्रेस की. देवास नाका के पास उसकी लोकेशन मिली. तत्काल टीम को भेजकर युवक को पकड़ा. उसे थाने लाए और पूछताछ की.

धर्मांतरण की खबर पर हिंदू संगठनों ने की मिशनरी स्कूल में तोड़फोड़, मामला दर्ज

युवक ने बताया कि वह पहले ड्राइवरी करता था. कुछ समय पहले नौकरी छूट गई. जिस कारण आर्थिक समस्या से जूझ रहा है. बच्चों के स्कूल की फीस भी नहीं भर पा रहा था जिस कारण बच्चे परीक्षा नहीं दे पाए. घर चलाने में भी समस्या आ रही. इस वजह से आत्महत्या करने जा रहा था. इसके बाद टीम ने उसकी काउंसलिंग की और उसे मानसिक रूप से मजबूत किया. इसके बाद एक निजी ट्रेवल एजेंसी के मालिक से बात कर उसकी नौकरी लगवाई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें