इंदौर: सेना में नहीं जा पाए तो युवाओं को दे रहे हैं मुफ्त में ट्रेनिंग

Smart News Team, Last updated: Tue, 9th Feb 2021, 8:29 PM IST
  • इंदौर के जितेंद्र पेरवाल नाम के शख्स भारतीय सेना में भर्ती होना चाहते थे. लेकिन उनका यह सपना पूरा नहीं हो पाया. ऐसे में उन्होंने अपने सपने को पूरा करने के लिए दूसरे युवकों का सहारा लिया और उन्हें सेना में भेजने की भी ठान ली.
सेना में नहीं जा पाए तो युवाओं को दे रहे हैं मुफ्त में ट्रेनिंग (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सेना में जाने का कई लोगों का सपना होता है. ऐसा ही सपना इंदौर के एक निवासी का भी था. लेकिन जब वह सेना में भर्ती नहीं हो पाया तो उसने दूसरों के जरिए अपने सपने को पूरा करने की कोशिश की. दरअसल, इंदौर के जितेंद्र पेरवाल नाम के शख्स भारतीय सेना में भर्ती होना चाहते थे. लेकिन उनका यह सपना पूरा नहीं हो पाया. ऐसे में उन्होंने अपने सपने को पूरा करने के लिए दूसरे युवकों का सहारा लिया और उन्हें सेना में भेजने की भी ठान ली.

सेना में युवाओं की भर्ती कराने के लिए जितेंद्र ने उन्हें ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी. उन्होंने युवाओं के एक छोटे से समूह को जीएसीसी कॉलेज के मैदान में निःशुल्क प्रशिक्षण देना शुरू किया. जहां जितेंद्र ने शुरुआत कुछ ही युवांओं से की थी तो वहीं पांच साल में उनका सपना इतना बड़ा हो गया है कि उनके पास रोजाना सैकड़ों युवक और युवतियां सेना में बर्ती का प्रशिक्षण लेते हैं. खास बात तो यह है कि जितेंद्र द्वारा ट्रेन किये जा रहे कई लोगों को सेना में भर्ती भी मिल चुकी है.

इंदौर: मोबाइल कारोबारी को उसके घर के सामने ही मारा चाकू, 9.5 लाख रुपये लूटे

युवाओं को दे रहे प्रशिक्षण के बारे में बात करते हुए जितेंद्र ने बताया कि वह पांच साल में करीब पांच हजार से भी ज्यादा लड़के और लड़कियों को सेना में भर्ती की ट्रेनिंग दे चुके हैं. इनमें से कई लोग सेना में चयनित भी हो चुके हैं. उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण के लिए कई बच्चे बाहर से आते हैं. उनपर रहने और खाने का खर्च ज्यादा होता है, ऐसे में वह उनसे फीस नहीं लेते हैं, जिससे छात्रों पर और बोझ न पड़े. जितेंद्र के मुताबिक करीब 80 फीसदी बच्चे फ्री में ट्रेनिंग लेते हैं और इनमें शामिल लड़कियों की ट्रेनिंग भी पूरी तरह से फ्री है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें