MP में अफसर नहीं करते विधायकों की सुनवाई, शिकायत पर विधानसभा अध्यक्ष ने बनाई कमेटी

Nawab Ali, Last updated: Mon, 6th Sep 2021, 5:19 PM IST
  • मध्यप्रदेश में विधायकों के अधिकारों की रक्षा के लिए विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने कमेटी का गठन किया है. इस कमेटी के जरिये उन अधिकारीयों पर कार्रवाई होगी जो प्रदेश के विधायकों को सम्मान और अधिकारों का हनन करते हैं. मध्यप्रदेश में विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष से अफसरशाही को लेकर शिकायत की थी.
मध्यप्रदेश में विधायकों के अधिकार रक्षा कमेटी का गठन किया गया है. (फाइल फोटो)

इंदौर. मध्यप्रदश की शिवराज सिंह चौहान सरकार में अफसरशाही विधायकों पर हावी होने का मामला सामने आया है. मध्यप्रदेश में विधायकों की शिकायत है कि अफसर उनके अधिकार और सम्मान का हनन करते हैं. मध्यप्रदेश के विधायकों ने बेलगाम अफसरशाही की शिकायत विधानसभा अध्यक्ष से की जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने एक कमेटी का गठन किया है. विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम का कहना है कि विधायकों की शिकायत के बाद कमेटी का गठन किया गया है. जो अफसर विधायकों के अधिकारों का हनन करते हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

मध्यप्रदेश की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सरकार में बीजेपी विधायक ही अफसरशाही से परेशान है. शिवराज सिंह चौहान सरकार में बेलगाम अफसरों की शिकायत विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष से की है. विधायकों का आरोप है कि प्रदेश के अधिकारी उनके अधिकारों का हनन कर रहे हैं. कई आयोजनों में प्रोटोकॉल के तहत उन्हें सम्मान नहीं दिया जा रहा है. एक विधायक होने के नाते अफसर उन्हें सम्मान नहीं देते हैं. विधायकों की शिकायत के बाद विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने विधायक सत्कार अनुरक्षण प्रोटोकॉल नाम से समिति का गठन किया है. इस कमेटी में विधायकों की शिकायत के बाद ऐसे अधिकारीयों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जो विधायकों को प्रोटोकॉल के हिसाब से अधिकारों का हनन करते हैं.

इंदौर में बदमाशों ने सरेआम की शख्स की हत्या, तमाशबीन बनी रही भीड़, मामला दर्ज

मध्यप्रदेश में अपनी ही सरकार में विधायक ठगा महसूस कर रहे हैं. विधायकों का कहना उनके क्षेत्र में कार्यक्रम आयोजन होने के बाद भी उन्हें नहीं बुलाया जाता है. किस भी विकास कार्य के लोकार्पण या शिलान्यास पर उनके नाम की पट्टी नहीं लगाईं जा रही है. यहां तक की अफसरों से मिलने के लिए घंटों इंतेजार करना पड़ता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें