MP के मेडिकल छात्र पढ़ेंगे हेडगेवार, दीनदयाल उपाध्याय के विचार, शिवराज सरकार कर सकती है पाठ्यक्रम में बदलाव

Haimendra Singh, Last updated: Sun, 5th Sep 2021, 2:28 PM IST
  • मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार राज्य के एमबीबीएस के प्रथम वर्ष के स्टूडेंट को फाउंडेशन कोर्स के माध्यम से संघ के संस्थापक केशवराव बलिराम हेडगेवार, दीनदयाल उपाध्याय, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर, स्वामी विवेकानंद, महर्षि चरक, आचार्य सुश्रुत के विचारों को पढ़ाएगी.
एमपी की शिवराज सरकार एमबीबीएस छात्रों को हेडगेवार और दीनदयाल उपाध्याय के विचारों को पढ़ाएगी.( फाइल फोटो)

इंदौर. मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह(Shivraj Singh Government)  ने मेडिकल विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम में बदलाव करने का फैसला किया है. राज्य सरकार ने एमबीबीएस(MBBS) प्रथम वर्ष के छात्रों को फाउंडेशन कोर्स में संघ(RRS) संस्थापक केशवराव बलिराम हेडगेवार, दीनदयाल उपाध्याय, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर, स्वामी विवेकानंद, महर्षि चरक, आचार्य सुश्रुत के विचारों का शामिल करने का फैसला किया है. सरकार का कहना है कि इससे छात्रों के बौद्धिक विकास होगा. इन सभी विचारकों के सिद्धांत और वैल्यू बेस्ड मेडिकल एजुकेशन में जोड़ने के लिए सरकार द्वारा प्लान तैयार किया जा रहा है.

शिवराज सरकार में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने सुझाव देने के लिए 5 सदस्यीय कमेटी का भी गठन किया है. मंत्री सारंग ने मामले में विभाग के अफसरों को एक नोटिस भी भेजा है. कमेटी में आने वाले सुझाव के बाद ही इन महापुरुषों के विचार, सिद्धांत, जीवन दर्शन को बिषय के रुप में फाउंडेशन कोर्स में जोड़ा जाएगा. इसके अलावा प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कमेटी को सलाह दी है कि वह पशु चिकित्सक डॉक्टर मोहन भागवत के विचारों को भी पाठ्यक्रम में शामिल करें, इसके अलावा उन्होंने कहा है कि, कोरोना की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम के तहत 17 सितंबर को प्रधानमंत्री के जन्मदिन के मौके पर महा अभियान चलाया जाएगा.

कांग्रेस के कार्यकाल में बने कलेक्टरों पर गिरी गाज, एक दिन में 31 IAS अफसरों का तबादला

पाठ्यक्रम में कैसे होगा बदलाव

भारत में एमबीबीएस का कोर्स नेशनल मेडिकल काउंसिल तय करती है. मेडिकल काउंसिल स्वंय से हर कोर्स के टॉपिक बताती है, लेकिन उस टॉपिक में लेक्चर में क्या होगा. यह की राज्य मेडिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट तय कर सकती है. मेडिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट इसमें नए लेक्चर जोड़ सकता हैं वह मेडिकल एथिक्स के टॉपिक का हिस्सा हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें