इंदौर में ट्रैफिक नियम तोड़ने की ऑन द स्पॉट सजा, भारी जुर्माने का चालान भरो या एक घंटा...

Nawab Ali, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 8:29 PM IST
  • मध्यप्रदेश के इंदौर में ट्रैफिक नियमों का पालन ना करने वालों के पुलिस मौके पर पर ही सजा दे रही है. अगर आप ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते हैं तो आपको मौके पर ही या तो जुर्माना भरना पड़ेगा या एक घंटा चौराहे पर खड़े होकर ट्रैफिक व्यवस्था संभालनी पड़ेगी.
इंदौर में ट्रैफिक नियम तोड़ने पर संभालनी होगी यातायात व्यवस्था. (फाइल फोटो)

इंदौर. मध्यप्रदेश में ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने के लिए पुलिस लगातार प्रयास में जुटी हुई है. कई बार ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन करने पर भी जाम की समस्या बन जाती है. इंदौर यातायात पुलिस ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर ऐसी सजा देगी की आप हैरान रह जाओगे. पुलिस द्वारा दी जाने वाली सजा के बाद आप कभी भी ट्रैफिक नियम तोड़ने के बारे में सोच भी नहीं सकेंगे. अगर कोई भी व्यक्ति इंदौर में ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करता है तो इंदौर ट्रैफिक पुलिस  उसे चौराहों पर ट्रैफिक व्यवस्था संभालने की सजा देगी.

आपने कई बार सुना होगा की ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर भारी जुर्माना राशि या गाड़ी सीज कर दी जाती है. लेकिन इंदौर में अब ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर आपको या तो जुर्माना भरना पड़ेगा या चौराहे पर खडा होकर एक घंटा ट्रैफिक व्यवस्था संभालनी होगी. इंदौर पुलिस ने यह अभियान इस लिए शुरू किया है ताकि लोग ट्रैफिक नियमों को लेकर जागरूक हो सकें. क्योंकि कई बार नियमों का पालन ना करने पर शहर में जाम की समस्या बन जाती है. रेड लाइट का उल्लंघन, अपनी लेन में ना चलना आदि. इंदौर यातायात पुलिस के डीएसपी उमाकांत चौधरी का कहना है की कई बार लोग ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन कर चालान भर देते हैं.

राजस्थान में ट्रक से जीप की जोरदार टक्कर में MP के 11 लोगों की मौत, CM शिवराज ने जताया दुख

लेकिन फिर से ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते हुए पाए जाते हैं जिस कारण पुलिस ने अभियान शुरू किया है की जो भी लोग कानून का पालन नहीं करते हैं या तो उन्हें मौके पर चालान भरना पड़ेगा या फिर चौराहे पर एक घंटा यातायात व्यवस्था संभालनी होगी. इसके साथ ही उन्हें भविष्य में यातायात नियम न तोड़ने की शपथ भी दिलाई जाएगी. जिन लोगों को यातायात व्यवस्था संभालने की सजा दी जाएगी उन्हें यातायात पुलिस की जैकेट भी पहननी होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें