MP में पांच दिन देरी से विदाई लेगा मानसून, इन इलाकों में 7 दिन भारी बारिश की संभावना

Anurag Gupta1, Last updated: Sun, 10th Oct 2021, 5:24 PM IST
  • मानसून की अंतिम बारिश पांच दिन देरी से होगी. मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार 15 अक्टूबर को होगी मानसून की अंतिम बारिश जो सात दिन तक हो सकती है. मानसून के जाने का असर दिख रहा है तापमान में उतार चढ़ाव देखने को मिल रहा है.
मध्य प्रदेश में तेज बारिश (फाइल फोटो)

इंदौर. मध्यप्रदेश में मानसून का अंतिम बारिश 15 अक्टूबर से सात दिन तक होने की उम्मीद लगाई जा रही है. प्रदेश में मानसून ने सात दिन पहले दस्तक दी थी और चार दिन देरी से जा रहा है. वैसे प्रदेश से मानसून 5 अक्टूबर को विदाई लेता है लेकिन इस बार थोड़ा देरी से जाएगा. हालांकि कई जिलों से ले चुका है बचे हुए जिलों से 48 घंटे के भीतर ले लेगा. 

मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह के अनुसार दतिया, शिवपुरी, अशोकनगर,  गुना, मंदसौर, उज्जैन रतलाम, झाबुआ, धार, इंदौर, देवास,शाजापुर, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, जबलपुर, मंडला, डिंडौरी, सागर, रीवा, भोपाल और शहडोल संभाग के जिलों से मानसून की विदाई हो गई. साथ ही बताया अरब और बंगाल की खाड़ी में एक साथ सिस्टम बनने से 15 अक्टूबर से पोस्ट मानसून की बारिश शुरू होगी. प्रदेश में अधिकांश जगहों पर गरज-चमक के साथ बौछार पड़ेंगी लेकिन कई हिस्सों में जोरदार बारिश की संभावना है. पोस्ट मानसून एक सप्ताह चलने की संभावना है.

MLA रमेश मेंदोला ने दी अमिताभ बच्चन को सलाह, कहा- आप न करें गुटखे और पान मसाले का प्रचार

वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह मुताबिक मानसून पिछले काफी समय से देरी से जा रहा है. अभी बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में एक साइक्लोन एक साथ एक्टिव हो रहे हैं. यह 13-14 में बंगाल की खाड़ी में पहुंच जाएंगे. इसके बाद 15 अक्टूबर से प्रदेशभर में तेज बारिश शुरू हो जाएगी. जो सप्ताह भर होने की उम्मीद है.

मौसम विभाग की सलाह:

वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह का कहना है कि एक सप्ताह तक जोरदार बारिश होगी. ऐसे में सबको सलाह है कि बारिश से प्रभावित क्षेत्र अपना खेती और भंडारण से जुड़ा काम 14 अक्टूबर तक निपटा लें.

मानसून के जाने का असर:

मध्यप्रदेश में मानसून के जाने का असर दिख रहा है तापमान का उतार चढ़ाव देखने को मिल रहा है. शनिवार को ग्वालियर का सबसे गर्म दिन रहा 37 डिग्री सेल्सियस पर करके 37.4 पहुंच गया. पचगढ़ी की रात सबसे सर्द रही 16 डिग्री सेल्सियस से पारा नीचे गिर 15.2 पहुंच गया.  पचगढ़ी को छोड़कर पूरे प्रदेश  भर का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा रहा. मामूली गिरावट के साथ सामान्य तापमान रिकॉर्ड किया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें