शराबी झूठ नहीं बोलता, कोरोना डबल डोज दारूबाज को ऐसे पहचानेगा MP

Atul Gupta, Last updated: Thu, 18th Nov 2021, 8:50 PM IST
  • मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में नया फरमान जारी किया गया कि कोरोना टीके की दोनों डोज लेने वालों को ही शराब मिलेगी. अब से कैसे साबित होगा कि किसने डोज ली या नहीं? सर्टिफिकेट से ही ना? लेकिन एमपी प्रशासन को सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है. उनके लिए शराबियों की गवाही काफी है
शराब की दुकान पर शराब खरीदते लोग (फोटो- सोशल मीडिया)

इंदौर: एमपी गज़ब है... सबसे अजब है... ऐसा वाकेई क्योंकि एमपी में जो होता है वो दुनिया में कहीं नहीं होता. बाकी दुनिया में माना जाता है कि इंसान भगवान के घर झूठ नहीं बोलता लेकिन एमपी वाले मानते हैं कि इंसान ठेके पर कभी झूठ नहीं बोलता. इसलिए एमपी सरकार का नया फरमान कुछ इस तरह लागू किया गया है जैसे वो मानकर बैठे हैं कि शराबी राजा हरिशचंद्र की छठी औलाद है और वो कभी झूठ नहीं बोलेगा. ऐसा हम नहीं आबकारी विभाग के अधिकारी बोल रहे हैं वो भी प्रेस के सामने. मामला दरअसल ये है कि मध्य प्रदेश के खंड़वा जिले में एक फरमान जारी किया गया कि शराब सिर्फ उन लोगों को मिलेगी जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले रखी होगी. अब सवाल ये उठने लगे कि इसे लागू कैसे किया जाए.

इसका जवाब देने के लिए आबकारी विभाग के अधिकारी सामने आए और उन्होंने खंडवा जिले में शराब खरीदने के नए नियम से मीडिया को रूबरू कराते हुए कहा कि शराब की दुकान पर मौजूद विक्रेता शराब खरीदने आए ग्राहक से पूछेगा कि भाई साहब, आपने कोरोना की दोनों डोज लगवाई या नहीं? अगर उसने हां बोला तो ही शराब मिलेगी नहीं तो नहीं मिलेगी.

घर में घुसे डकैतों ने पहले बूढ़ी मां को पिलाया पानी, फिर जमकर की डकैती

आगे उन्होंने कहा कि इस संबंध में शराब के ठेके के बाहर बोर्ड भी लगवाया जाएगा कि कोरोना के दोनों टीके लगवाने वालों को ही शराब मिलेगी. अब बारी थी मीडिया वालों की जिन्होंने सवाल पूछा कि ये कैसे साबित होगा कि ग्राहक ने दोनों डोज लगवाए या नहीं? अगर वो झूठ बोल दे तो? आबकारी विभाग के अफसर ने इस सवाल का बड़ी मासूमियत से जवाब देते हुए कहा कि ये तो उसकी ईमानदारी पर है कि वो बोलेगा मेरे टीका लग गया है.

Video: पुलिसकर्मी ने सड़क पर लगाई बच्चों की बोली- 50 हजार में खरीद लो बेटा

यही नहीं, आबकारी विभाग के अफसर ने इसके बाद एक और 100 टके की बात कही जिसका किसी के पास कोई जवाब ही नहीं था. उन्होंने कहा- हमारा खुद का अनुभव है कि हिंदुस्तान में दारु पीने वाला सच बोलता है, झूठ नहीं बोलता. कोई सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं, अगर शराबी ने बोल दिया दोनों डोज लग गए तो हम मान लेंगे. इस मासूमियत पर कौन फिदा ना हो जाए? आबकारी विभाग के अफसर का ये बयान जमकर वायरल हो रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें