इस वजह से इंदौर के एसपी को कैंसिल करना पड़ा दो केले वाला ऑर्डर

Smart News Team, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 11:46 AM IST
  • इंदौर पश्चिमी के एसपी महेश चंद्र जैन ने सभी थानों प्रभारियों को रोल-कॉल के दौरान दो- दो केले देने के आदेश को कैंसिल कर दिया है. जानकारी अनुसार, इसकी वजह बजट की कमी और आला अधिकारियों की नाराजगी बताई जा रही है. जिसके चलते पांच दिन के अंदर ही इस आदेश को वापस लेना पड़ा.
इंदौर पश्चिमी के एसपी महेश चंद्र जैन. (फोटो- टि्वटर प्रोफाइल)

इंदौर. 1500 पुलिसकर्मियों को एनर्जी देने और चुस्त-दुरुस्त रखने के उद्देश्य को लेकर इंदौर पश्चिमी के एसपी महेश चंद्र जैन ने 25 अगस्त को एक आदेश जारी किया, जिसमें उन्होंने रोल-कॉल (सुबह और शाम को जवानों की होनी वाली गणना) में जवानों को दो-दो केले उपलब्ध कराने को कहा, लेकिन यह आदेश एक हफ्ते भी नहीं चल सका और एसपी को यह आदेश कैंसिल करना पड़ा. इसके पीछे बजट की कमी को सबसे महत्वपूर्ण माना जा रहा है. साथ ही जानकारी अनुसार, पुलिस मुख्यालय के कुछ आला अधिकारियों को यह पहल पसंद नहीं आई. जिसके चलते इस पहल पर विराम लगा दिया गया.

केले वितरण में सामने आने लगी थी बजट की समस्या

25 अगस्त को आदेश जारी होने के बाद केलों का वितरण रोल-कॉल के दौरान होने लगा. इस दौरान सबसे बड़ी समस्या बजट की सामने आने लगी. इस पहल की शुरुआत से पहले एसपी ने किसी तरह की कोई राशि आवंटित नहीं की थी. वहीं, एसपी महेंद्र चंद ने बताया कि सरकार के बजट में केले खरीदने का कोई प्रावधान नहीं है, हालांकि इसे व्यक्तिगत स्तर पर उपलब्ध कराया जा सकता है, लेकिन बजट की कमी के चलते फैसले को वापस ले लिया गया.

IIM इंदौर की मदद से कानपुर का ट्रैफिक बनेगा अत्याधुनिक, एम्बुलेंस के लिए होगा ग्रीन कॉरिडोर, जाम से मिलेगी निजात

जवानों की सेहत के लिए जारी किया था आदेश

इंदौर पश्चिम के एसपी महेश चंद्र जैन ने 25 अगस्त को एक आदेश जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा कि सभी थाना प्रभारी सुबह-शाम रोल-कॉल के दौरान सभी जवानों को दो-दो केले खाने के लिए दें. इसके लिए थोक केले विक्रेता से बात कर किफायती दाम में अच्छी गुणवत्ता वाले केले लेने को कहा गया. इसमें एएसपी, सीएसपी और एसडीओपी को भी ध्यान देने को कहा गया है. एसपी ने तर्क दिया कि केला सबसे पौष्टिक आहार है और केले वितरण के बाद थाना प्रभारी बिल पेश करेगा तो सरकार से उसका पेमेंट करा दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि वैसे इस पहल को लेकर कई सामाजिक संस्थाओं से भी बात की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें