इंदौर : पाकिस्तान से लौटी गीता घर रवाना, एक परिवार ने बर्थ मार्क बताकर किया दावा

Smart News Team, Last updated: Mon, 11th Jan 2021, 9:06 PM IST
  • पाकिस्तान से लौटी मूकबधिर गीता अपने संभावित परिवार से मिलने महालक्ष्मी नगर इंदौर से सोमवार प्रात: 8 बजे टेम्पो ट्रैवलर से रवाना हुई. महाराष्ट्र और तेलंगाना बॉर्डर पर स्थित परभणी स्थित एक परिवार ने गीता के शरीर पर मौजूद बर्थ मार्क्स बताकर अपने दावे को प्राथमिक तौर पर सिद्ध कर दिया है.
पाकिस्तान से लौटी मूक-बधिर गीता

इंदौर. पाकिस्तान से वापस लौटी मूकबधिर गीता के माता-पिता की तलाश अब लगभग खत्म होने वाली है. गीता के परिवार को तलाशने की कवायद इंदौर की ही एक संस्था के संस्थापक ज्ञानेंद्र पुरोहित और उनकी पत्नी मोनिका पुरोहित लगातार कर रहे हैं. इनकी कोशिशें अब रंग लाती दिख रही हैं. महाराष्ट्र और तेलंगाना बॉर्डर पर स्थित परभणी स्थित एक परिवार ने गीता का परिवार होने का दावा करते हुए गीता के शरीर पर मौजूद बर्थ मार्क्स बताकर अपने दावे को प्राथमिक तौर पर सिद्ध कर दिया है. 

पाकिस्तान से लौटी मूकबधिर गीता अपने संभावित परिवार से मिलने महालक्ष्मी नगर इंदौर से सोमवार प्रात: 8 बजे टेम्पो ट्रैवलर से रवाना हुई. गीता वर्तमान में इंदौर में ज्ञानेंद्र और मोनिका पुरोहित की संस्था आनंद सर्विस सोसायटी में निवासरत थी. इस संस्था ने रोटरी डिस्ट्रिक्ट, जिला प्रशासन सामाजिक न्याय विभाग और इंदौर पुलिस की मदद से गीता के मूलस्थान का पता ढूंढ निकाला है. गीता के साथ ज्ञानेंद्र पुरोहित, संस्था की महिला स्टाफ और पुलिस स्टाफ उसे परभणी छोड़ने जा रहे हैं. गीता को शुभकामनाओं के साथ रवाना करने के लिए रोटरी डिस्ट्रिक्ट के मंडलाध्यक्ष रोटरियन गजेन्द्र सिंह नारंग, असिस्टेंट गवर्नर राजेंद्र जैन, वरिष्ठ रोटरियन वर्गीश अलंगार्डन, सचिव हातिम अनंत भी मौजू थे. ज्ञानेंद्र पुरोहित ने बताया कि गीता को 20 जुलाई 2020 को जिला प्रशासन इंदौर ने पुनर्वासित करने की दृष्टी से सौंपा था. गीता को लेकर अमिताभ बच्चन से भी केबीसी के मंच से परिवार को आगे आने के लिए अपील करवाई गई थी. इस कारण से कई लोग महाराष्ट्र और तेलंगाना से सामने आए. 

इंदौर : खेलने पहुंची थी 10 वर्षीय मासूम, सहेली के पिता ने किया रेप

कई परिवारों से गीता की बात करवाने के बाद परभणी जिले के जिन्तुर के एक परिवार का पता चला. गीता को उनसे मिलवा दिया गया है.  इस परिवार से डीएनए व अन्य औपचारिकताएं करवाने में अभी कुछ समय लगेगा. ज्ञानेंद्र पुरोहित ने बताया की गीता को पुनर्वासित करने का प्रयास किया जा रहा है. इसके लिए टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंस मुंबई की दिव्यांग समाज कार्य विभाग की प्रमुख डॉ. वैशाली कोल्हे की भी मदद ली जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें