जूता पहन आरती करते हुए पुजारी फोटो और वीडियो वायरल, मंदिर पंडित ने दी सफाई, जानें मामला

Smart News Team, Last updated: Wed, 28th Apr 2021, 1:46 PM IST
  • इंदौर रणजीत हनुमान मंदिर में जूता पहनकर आरती करते हुए पुजारी की फोटो और वीडियो वायरल हुई. जिसके बाद लोगो ने पुजारी को मदिर हटाने की मांग की. वही यह मामला पुजारी द्वारा दिए गए सफाई के बाद शांत हुआ.
जूता पहन आरती करते हुए पुजारी फोटो और वीडियो वायरल, मदिर पंडित ने दी सफाई, जानें मामला

इंदौर. देश भर में मंगलवार को हनुमान जयंती मनाई गई. व्ही हनुमान जयंती के दिन इंदौर के विश्वप्रशिद्ध रणजीत हनुमान मंदिर में श्रद्धालुनो का सैलाब सुबह से उमड़ पड़ा था. वही लोग भगवान हनुमान के दर्शन के लिए उमड़ पड़े थे. इसी बीच मंदिर के पुजारी का आरती करते हुए एक वीडिओ वायरल हो गया. जिसमे वह जूता पहनकर बाबा की आरती करते हुए नजर आ रहे है. जिसके बाद लोगों ने पुजारी को मंदिर से हटाने की मांग तक कर डाली.

दरअसल मंगलवार की रात को मंदिर के पुजारी पंडित दीपेश व्यास का एक फोटो और वीडियो वायरल हो गया. जिसमे वह मंदिर के गर्भगृह में हनुमान की मूर्ति की आरती करते हुए नजर आ रहे है. वही जब यह लोगों ने देखा तो उनके अंदर पुजारी के खिलाफ आक्रोश आ गया. जिसके बाद कई लोगों ने सोशल मीडिया पर पुजारी को उसके पद से हटाने की मांग तक कर डाली. साथ ही कई लोगो ने इसपर अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी.

बिहार, झारखंड और MP के 10 बड़े शहरों में 28 अप्रैल रमजान सेहरी खत्म टाइम

वही जब इसकी जानकारी मदिर के पुजारी पंडित दीपेश व्यास को हुई तो उन्होंने इसकी सफाई दी. उन्होंने कहा कि गर्भगृह में आरती के समय जो उन्होंने पहन रखा था वह एक प्रकार का उन और रेशम से बने हुए खड़ाऊ जैसे मोजे थे. वही उन्होंने आगे बताया कि जब वह मंदिर आते है तो परिसर विशाल होने कारन उन्हें नघे पाव गर्भगृह तक आना पड़ता है. उस दौरान काफी सूक्ष्म जव उनके पैरों में लग जाते है. वही इन मोजो का उपयोग गर्भगृह को स्वच्छ रखे के लिए किया करते है.

CM शिवराज ने दी MP में शादियों की परमिशन, सिर्फ 10 लोग ही हो सकेंगे शामिल

वही पुजारी ने आगे कहा कि वह पिछेल पांच पीढ़ियों से बाबा की सेवा हमारे द्वारा की जाती रही है. ऐसे में उनके खिलाफ इस तरह का प्रचार करना शोभनीय नहीं है. वही उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए भी यह जरुरी है. फिलहाल पुजारी के सफाई देने के बाद मामला शांत हो गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें