राशन माफिया की संपत्ति हुई कुर्क, 12 मार्च को होगी निलाम

Smart News Team, Last updated: Thu, 25th Feb 2021, 1:58 PM IST
  • इंदौर में जिला प्रशासन ने राशन माफिया द्वारा बकाया न जमा करने पर राशन माफिया श्याम दवे की संपत्ति कुर्क कर ली है. समय सीमा से पहले उन्होंने पैसा नहीं जमा किया तो उनकी संपत्ति 12 मार्च को नीलाम कर दी जाएगी.
राशन माफिया की संपत्ति हुई कुर्क, 12 मार्च को होगी निलाम (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंदौर में जिला प्रशासन ने राशन माफिया द्वारा बकाया न जमा करने पर राशन माफिया दवे की संपत्ति कुर्क कर ली है. बताया जा रहा है कि अगर समय सीमा से पहले उन्होंने पैसा नहीं जमा कराया तो उनकी संपत्ति को 12 मार्च को नीलाम कर दिया जाएगा. राशन माफिया के खिलाफ ये कड़ी कार्रवााई कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देश के बाद की गई है. बताया जा रहा है कि राशन माफिया पर गरीबों का राशन हड़पने का आरोप है, जिसके बाद ही उनकी संपत्ति को कुर्क कर वसूली की जाएगी.

राशन माफिया के खिलाफ की गई जांच में सामने आया है कि उनके परिवार के 12 सदस्य भी राशन लूट में शामिल थे. दवे ने लॉकडाउन में गरीबों के लिए आये को खुले बाजार में बेच दिया था. ऐसे में गरीब लोग राशन के लिए लॉकडाउन में सड़कों पर भटकते रहे. इन्होंने दान का राशन, भोजन के पैकेट के भरोसे लॉकडाउन में दिन गुजारे. श्याम के बेटे और अन्य परिजन भी इस कालाबाजारी में शामिल हैं. मामले को लेकर आरोपी श्याम दवे पर जुर्माना भी लगाया गया था. राशन की राशि की वसूली के लिए मोती तबेला स्थित प्लॉट क्रमांक 20/3 के एक हजार वर्गफीट में बने पक्के भवन को प्लॉट सहित कुर्क किया गया.

इंदौर में स्पा सेंटर की आड़ में हो रहे थे अनैतिक काम, 24 लोग गिरफ्तार

मामले को लेकर अपर कलेक्टर अभय बेडेकर ने कहा कि बकाया राशि नहीं देने पर इस संपत्ति की नीलामी 12 मार्च को दोपहर 3 बजे कलेक्टोरेट के कक्ष क्रमांक-115 में की जाएगी. बताया जा रहा है कि गरीबों का अनाज लूटने में राशन माफिया बने दवे परिवार के 12 सदस्य शामिल थे. उन्होंने सहकारिता उपभंडार में पदाधिकारी और उचित मूल्य की दुकान में विक्रेता बनाकर इस घोटाले को अंजाम दिया. वहीं, राशन बेचकर हुई करोड़ों की काली कमाई को राशन माफिया ने रियल सेक्टर में लगाकर मल्टियां बनाई और अन्य कारोबार में निवेश किया.

नाले में बह रहा था नर्मदा का पानी, मामले में सहायक यंत्री निलंबित

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें