इंदौर: सीढ़ियों से हटने के लिए कहा तो कर दी पति-पत्नी की पिटाई, केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: Sat, 15th May 2021, 1:57 PM IST
  • इंदौर में गोविंद कालोनी की रहने वाली नेहा और उसके पति शफीक खान ने क्षेत्रीय थाने में सीढ़ियों से हटने के लिए कहने कर तीन लोगों पार्वती, चीतेश्वर और मंजू साहू नाम के दो व्यक्तियों समेत तीन लोगों के खिलाफ मारपीट करने की शिकायत दर्ज कराई है.
इंदौर: सीढ़ियों से हटने के लिए कहा तो कर दी पति-पत्नी की पिटाई, केस दर्ज.( सांकेतिक फोटो )

इंदौर। इंदौर में इस कोरोना काल में भी अपराधिक घटनाओं में किसी तरह की कोई कमी नहीं आई है. हाल ही में एक ही दिन में शहर के अलग अलग हिस्सों से कई अपराधिक घटनाएं सामने आई हैं. पहली घटना बाणगंगा थाना क्षेत्र में गोविंद कालोनी की है. इसी कालोनी की रहने वाली नेहा और उसके पति शफीक खान ने क्षेत्रीय थाने में तीन लोगों के खिलाफ मारपीट की शिकायत दर्ज कराई है.

शिकायत में पीड़िता नेहा ने पुलिस को बताया कि वह गुरुवार शाम पति शफीक को पानी देने जा रही थी, वहीं सीढ़ियों पर पार्वती बैठी हुई थी. उसने पार्वती से हटने के लिए कहा तो वह गालियां देने लगी. वहां चीतेश्वर और मंजू साहू नाम के दो व्यक्ति भी आ गए, उनमें से एक ने नेहा पर चाकू से वार भी किया. नेहा का पति शफीक बीच-बचाव करने आया तो उन्होंने उसके साथ भी मारपीट की. पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है.

इंदौर कोविड सेंटर में नहीं जाने वाले संक्रमित ग्रामीणों के घरों की काटी बिजली

दूसरी घटना बिजलपुर स्थित एक गोदाम में हुई जहां दिलेर बदमाशों ने ग्राइंडर व कटर बनाने की मशीनों के बाक्स को चुरा लिया. पीड़ित गोदाम के मालिक अली असगर ने बताया कि उनकी ग्लोब पावर टूल्स नाम से बिजलपुर में एक फर्म है जहां ग्राइंडर व कटर बनाने का काम होता है, जिससे लकड़ी व पत्थर काटा जाता है. उन्होंने बताया कि गुरुवार रात दो से तीन बजे के बीच तीन बदमाश गोदाम में घुसे और 30 से 40 बाक्स एक वाहन में भरकर ले गए. अली असगर ने बताया कि चोरी हुए समान की कीमत सात लाख रुपये से अधिक है. उन्होंने घटना की सूचना राजेंद्रनगर थाना पुलिस को दी. पुलिस सीसीटीवी फुटेज में चोरी करते दिख रहे बदमाशों की तलाश में जुटी है.

शिवराज सरकार उठाएगी राज्य के कोरोना संक्रमित पत्रकार और उनके परिवार के इलाज का खर्च

वही दूसरी तरफ इंदौर नगर निगम द्वारा सुखलिया स्थित बापट अस्पताल पर 20 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया गया है. अस्पताल के कर्मियों ने बापट चौराहे के पास पड़ी खाली जगह पर कोरोना का काफी सारा मेडिकल वेस्ट फेंका था. इसकी जानकारी तब हुई जब शुक्रवार को जोन पांच के सीएसआइ राकेश डांगोरिया निरीक्षण के दौरान वहां से गुजर रहे , तो वेस्ट की जांच की गई. तब पता चला कि वह कचरा बापट अस्पताल के कर्मचारियों ने था फेंका है. जिसके बाद सीएसआइ ने अस्पताल पहुंचकर प्रबंधन से 20 हजार रुपये का अर्थदंड वसूल किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें