ट्रेन लूटने के लिए पांच के सिक्के का इस्तेमाल, बदमाशों की ये तकनीक कर देगी हैरान

Smart News Team, Last updated: Mon, 23rd Aug 2021, 9:49 PM IST
  • पांच के सिक्के का इस्तेमाल करके बदमाश ट्रेनों में लूटपाट मचा रहे थे. पांच के सिक्के या लोहे की रोड ट्रैक पर रखकर सिग्नल को रेड कर देते थे. जिसके कारण ट्रेन आउटर पर रुक जाती थी और बदमाश वारदात को अंजाम देते थे. 
पांच के सिक्के से तेज रफ्तार ट्रेन को रोक लूटते थे बदमाश, ये है वारदात को अंजाम देने का तरीका

इंदौर. क्राइम की सिर्फ दर नहीं बढ़ रही है बल्कि बदमाश अपराध के हर दिन नए तरीके खोज निकालते हैं. ट्रेन लूट के लिए भी बदमाशों ने कई तरीके खोज निकाले हैं. कभी ट्रेन के एसी में नशीली दवा डाल लोगों को बेहोश कर लूट की जाती है तो कभी कोई और तरीके से बदमाश लूट की प्लानिंग बनाते हैं. इस बार बदमाशों ने अनोखे तरीके लूट की है जिसमें उन्होनें पांच रुपए के सिक्के के इस्तेमाल से ट्रेन के सिग्नल को ब्लॉक करके वारदात को अंजाम दिया है. बदमाश पांच रुपए के सिक्के से ट्रैक के सिग्नल को रेड कर देते और फिर ट्रेन के रुकने के बाद लूट को अंजाम देते.

लूट करने के लिए बदमाश पहले पटरियों के बीच लगे बैरिकेट्स पर पांच का सिक्का या लोहे की रॉड लगा देते थे. सिक्का या लोहे की रॉड लगाए जाने के कारण शॉर्ट सर्किट हो जाता था जिससे सिग्नल की सभी लाइट्स रेड हो जाती थी. सिग्नल लाल होने के कारण ट्रेन आउटर पर ही रुक जाती थी. ट्रेन के रुकने के बाद बदमाश वारदात को अंजाम देते थे. बदमाश लंबी दूरी की ट्रेनों को अपना टारगेट बनाते थे. गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान की लंबी दूरी की ट्रेनों को शिकार बनाकर आरोपी जमकर लूट मचाते थे. वहीं अगर इन बदमाशों के आगे कोई विरोध के सुर उठा दे तो ये उनकी पिटाई कर देते थे. 

IRCTC ने पैसेंजर्स को दिया ट्रेन लेट का हर्जाना, तेजस एक्सप्रेस की देरी पर यात्रियों को वापस मिला 250 रुपए

रेलवे को आउटर पर लगातार हो रही वारदातों को शिकायत मिली. जिसके बाद जांच में पता लगा कि घटनास्थल के करीब चार पहिया गाड़ी भी खड़ी होती है. जीआरपी पुलिस ने इसके बाद घटना स्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जिसके बाद गाड़ी के नंबर का पता लगा. जीआरपी ने वीडियो में दिख रहे गाड़ी के नंबर और फास्टैग स्टीकर के आधार पर आरोपियों को पुलिस ने अरेस्ट करके देल भेज दिया.

पुलिस को पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि वह 4 राज्यों में 6 जगहों पर लूट की वारदात को अंजाम दे चुके हैं. बदमाशों ने बताया कि उन्होनें माउंटआबू, भरूच, वापी, औरंगाबाद, मक्सी और कोटा में इस तकनीक के जरिए गाड़ी को रोककर लूटपाट की है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें