महिला ने एमवाय अस्पताल से चुराया था बच्चा, एक दिन बाद थाना परिसर में वापिस छोड़ा

Smart News Team, Last updated: Fri, 20th Nov 2020, 2:58 PM IST
  • इंदौर के एमवायएच अस्पताल से चोरी हुआ बच्चा अब मिल गया है. बच्चे को चोर युवती ने पुलिस थाने में वापिस छोड़कर चली गई. दरअसल, चोर महिला शुक्रवार को चोरी किए गए बच्चे को संयोगितागंज पुलिस थाना के परिसर में छोड़कर चली गई.
इंदौर के एमवाय अस्पताल में चोरी किया हुआ बच्चा वापिस मिला

इंदौर: इंदौर के एमवायएच अस्पताल से चोरी हुआ बच्चा अब मिल गया है. बच्चे को चोर युवती है पुलिस थाने में वापिस छोड़कर चली गई. दरअसल, चोर महिला शुक्रवार को चोरी किए गए बच्चे को संयोगितागंज पुलिस थाना के परिसर में छोड़कर चली गई. सुबह महिला सफाईकर्मी आई तो उसने बच्चे को देखा और फिर पुलिस को सूचना दी. फिलहाल फिलहाल बच्चे को पुलिस सुरक्षा में एमवायएच की पीआइसीयू में भर्ती कराया गया है. बता दें, महिला ने एक दिन पहले ही बच्चे को एमवायएच अस्पताल से चुराया था, जिसके बाद इस मामले में तूल पकड़ लिया था.

वहीं, पुलिस ने जब संयोगितागंज थाने के सीसीटीवी फुटेज निकाले तो पता चला बच्चे को वो ही युवती रखकर कर गई है, जिसने एमवायएच से बच्चा चुराया था. पुलिस के अनुसार युवती पैदल थाना परिसर तक पहुंची और मौका पाते ही वह कपड़े में लिपटे बच्चे को रखकर चली गई. अब पुलिस महिला को ढूंढ़ रही है.

विद्युत कंपनी को मिला नवंबर में 900 करोड़ जुटाने का लक्ष्य, अब शुरू होगी वसूली

यह है पूरा मामलाः

पंचम की फेल मालवा मिल में रहने वाली रानी पत्नी लोकेश भियाने ने 16 नवंबर को एक लड़के को जन्म दिया था. शाम को उनके वार्ड में एक महिला नर्स बनकर आई और उसने बच्चे का चेकअप किया. नर्स ने कहा कि बच्चे की धड़कन कम है, इसकी जांच करवाना पड़ेगी. मेरे साथ नीचे चलो. हालांकि, परिवार ने मना कर दिया. पीड़ित के अनुसार उस समय तो वह महिला चली गई लेकिन थोड़ी देर बाद वह दोबारा आई और कहा कि मेरे साथ चलो, आप अभी तक क्यों नहीं गए, तो रानी की मां बच्चे को लेकर उनके पीछे चली गई. नीचे जाकर उसने बच्चे को गोद में ले लिया और कहा कि आप पर्ची बनवा लाओ. जैसे ही, नानी सामने पर्ची बनवाने गई, वह युवती पीछे पलटी. इधर-उधर देखा और बच्चे को लेकर पीछे वाले गेट से निकल गई. नानी पर्ची बनवाकर जब लौटी, तो युवती नहीं दिखी. खोजने के बाद परिवार वालों और एमवाय अस्पताल प्रशासन को सूचित किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें