पूर्व सीएम कमलनाथ पर भाजपा महासचिव ने किया, हमला बोले लाखों वोटों से हारेंगे

Smart News Team, Last updated: 13/09/2020 06:58 AM IST
  • इंदौर. भाजपा महासचिव ने इस दौरान कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भी जमकर हमला बोला. बताया कि कमलनाथ न तो अच्छे प्रशासक हैं और न ही अच्छे वक्ता है. इसलिए समाज में उनका कोई भी खास असर नहीं है.
कमलनाथ , कैलाश विजयवर्गीय

इंदौर| कोरोना संक्रमण को लेकर भारतीय जनता पार्टी अपनी मुहिम को चलाते हुए लोगों को अधिक से अधिक स्वस्थ करने के लिए अभियान जारी किए हुए हैं. इंदौर में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने रेसीडेंसी कोठी में व्यापारियों से वार्ता की. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन करना, दुकाने बंद करना अब इसकी आवश्यकता नहीं रह गई है. केवल आवश्यकता है तो केवल लोगों में जागरूकता फैलाने की. इस प्रकार से माइंड को सेट करना होगा कि कोरोना भी रहे और हम भी रहे. इसलिए सरकार द्वारा बताए गए नियमों का पालन करें. जिससे कि खुद के साथ-साथ दूसरों को भी सुरक्षित कर सके.

भाजपा महासचिव ने इस दौरान कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भी जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने 15 महीनों में इतने मुद्दे दिए हैं कि विधानसभा चुनावों में वह प्रत्येक विधानसभा से 50 हजार से अधिक वोटों से हारेंगे. बताया कि वह न तो अच्छे प्रशासक हैं और न ही अच्छे वक्ता है. इसलिए समाज में उनका कोई भी खास असर नहीं है. उन्होंने कहा बच्चों और बुजुर्गों के लिए कोरोना वायरस ज्यादा खतरनाक है. इसलिए सभी लोग मास्क का नियमित प्रयोग करें. बिना मास्क के लोग घरों से निकले और जो भी व्यक्ति बिना मास्क के घरों से बाहर निकल रहे हैं इसकी सूचना तत्काल पुलिस को दें.

इंदौर: पूर्व विधायक के बेटे पर 8 महीने पुराना छेड़छाड़ केस, शादी Vs ब्लैकमेलिंग

एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि शहर को बंद करने के पक्ष में भाजपा सरकार नहीं है. यह शहर की व्यापारिक राजधानी है इसलिए यदि यहां का बाजार बंद हो जाता है तो उसे काफी समस्या उत्पन्न होती है. बताया कि अस्पतालों में बेड फुल हैं. इंदौर की जनसंख्या के हिसाब से उनके पास पर्याप्त व्यवस्था है. मगर इंदौर संभाग के अलावा उज्जैन और ग्वालियर से भी मरीज यहां पर आ रहे हैं. इसलिए अस्पतालों में मरीजों की भरमार बनी हुई है. कहा कि यदि युवा संक्रमित हो जाते हैं तो उन्हें घर में ही रहकर अपना उपचार करना चाहिए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें