इंदौर में हाइवे जाम करने के आरोप में 40 किसानों के खिलाफ 151 की कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 02:04 PM IST
  • इंदौर. किसानों ने खातेगांव में इंदौर बैतूल हाईवे पर चक्का जाम कर दिया था. जाम इसलिए लगाया गया है कि कलेक्टर के न मिलने से वह आक्रोशित है. चक्का जाम कर रखा था. इससे लोगों को परेशानी हो रही थी. जिस कारण 40 किसानों की गिरफ्तारी हुई जिन्हें एसडीएम ने मुचलके पर रिहा कर दिया.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर| कलेक्टर द्वारा किसानों की बात को गंभीरता से न लेते हुए वह उग्र हो गए और उन्होंने तीन बत्ती चौराहे पर चक्का जाम कर दिया. इससे यातायात पूरी तरह से प्रभावित हो गया. चार घंटे तक लगे जाम को खोलने के लिए पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. इस पर पुलिस ने 40 किसानों के विरुद्ध 151 की कार्रवाई कर गिरफ्तार किया.

बताते चलें भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसानों ने खातेगांव में इंदौर बैतूल हाईवे पर चक्का जाम कर दिया था. चार घंटे तक करीब 500 वाहन वहां फंसे रहे. किसानों ने बताया कि उनके द्वारा यह जाम इसलिए लगाया गया है कि कलेक्टर के न मिलने से वह आक्रोशित है. किसानों ने जानकारी देते हुए बताया बाढ़ से खराब हुई फसलों को देखने के लिए केंद्रीय दल नेमावर आया था. यहां आते समय कलेक्टर भी खातेगांव से निकले. किसानों का कहना था कि वह उनसे आकर मिले दोपहर 12 बजे अपर कलेक्टर किसानों के बीच पहुंचे और उनका ज्ञापन लिया. कुछ मिनट वहां रुके और आश्वासन दिया. मगर किसान इससे संतुष्ट नहीं हुए और वह सड़कों पर उतर कर नारेबाजी करने लगे. उन्होंने तीन बत्ती चौराहे पर चक्का जाम कर दिया. इस दौरान वहां से निकली 5 पांच एंबुलेंस भी जाम में फंसी रही. एंबुलेंस को जाम में फंसा देख किसानों ने उन्हें रास्ता खाली कर निकाल दिया.

इस संबंध में विधायक खातेगांव आशीष शर्मा ने बताया कि फसल नुकसानी और बाढ़ पीड़ितों का वर्तमान में सर्वे चल रहा है. बीमा की तारीख बढ़ाई गई है. यूरिया भी आ गया है. इसलिए किसानों को अभी आंदोलन करने की आवश्यकता नहीं थी. पुलिस ने आंदोलन के कारण नहीं बल्कि हाइवे जाम करने के कारण किसानों को गिरफ्तार किया है.

अब हवा से ऑक्सीजन तैयार कर दी जाएगी मरीजों को, एमपी को मिली एक हजार मशीनें

एसडीओपी बृजेश सिंह कुशवाह ने कहा कि कई बार किसानों को समझाया गया और ज्ञापन लेने के बावजूद उन्हें चक्का जाम कर रखा था. इससे लोगों को परेशानी हो रही थी. जिस कारण 40 किसानों की गिरफ्तारी हुई जिन्हें एसडीएम ने मुचलके पर रिहा कर दिया.

देवास के कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला ने बताया किसानों की सभी मांगें मान ली गई हैं. यहां तक कि केंद्रीय दल भी आ चुका है. सरकार किसानों के साथ हैं. बाहर के लोग आकर यहां चक्का जाम करने की कोशिश करेंगे तो उन पर मुकदमा दर्ज करते हुए कड़ी कार्यवाही की जाएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें