कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए डीएम ने दिए सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश

Smart News Team, Last updated: 23/10/2020 05:36 PM IST
  • कोविड-19 संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए डीएम ने सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए है, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग अब हर दिन 4500 लोगों की जांच करेगा. पहले ढाई से तीन हजार लोगों की जांच हो रही थी. संक्रमित मरीजों की जांच फीवर क्लीनिक में की जाएगी.
कोविड-19 संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए डीएम ने सैपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए है

इंदौर. शहर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार कमी आ रही है. इस संख्या को और कम करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के कोशिशें जारी है, इसी क्रम में विभाग ने कोविड-19 संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए सैपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए है.

दरअसल, जिलाधिकारी मनीष सिंह ने गुरूवार को बैठक में स्वास्थ्य विभाग के सभी लोगों को निर्देशित करते हुए कहा कि फीवर क्लीनिक में सैपलिंग की संख्या बढ़ाने के आदेश दिए है. उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति सर्दी-खांसी की जांच कराने के लिए आ रहा है तो वह अपने परिवार और संपर्क में आए लोगों की जांच भी फीवर क्लीनिक में कराएगा. 

नाबालिग लड़के पर महिला ने लगाया छेड़खानी का आरोप, पुलिस ने केस किया दर्ज

इस बैठक में स्वास्थ्य विभाग के लोगों के साथ फीवर क्लीनिक के डॉक्टर व सैंपल लेने वाले स्टाफ भी शामिल थे. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक अभी रोजाना ढाई से तीन हजार लोगों की सैपलिंग हो रही है. लेकिन जिलाधिकारी द्वारा मिले नए आदेशों के बाद अब स्वास्थ्य विभाग को हर दिन 4500 लोगों की सैपलिंग करनी होगी. 

शहर में स्वास्थ्य विभाग कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है. एसडीएम के माध्यम से 45 टीमें कोविड-19 पॉजीटिव आने वाले मरीजों के परिवार के लोग व संपर्क में आए लोगों की जांच के लिए संबंधितों के घरों तक पहुंच रही है. ज्यादा से ज्यादा लोगों की सैपलिंग लेने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने ग्रामीण क्षेत्रों में आशा कार्यकर्ता, एएनएम व आंगनबाड़ी को निर्देश दिए है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें