बालिकाओं को बताया टीबी और कोरोना में अंतर, ज्योति बालिका गृह में हुआ आयोजन

Smart News Team, Last updated: Sun, 1st Nov 2020, 4:58 PM IST
  • इंदौर: कोरोनावायरस के कहर के बीच इंदौर में एक नई पहल की गई है. दरअसल, यहां पर जीवन ज्योति बालिका गृह में शनिवार को एक वर्चुअल जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया.
ज्योति बालिका गृह में बालिकाओ को बताया टीबी और कोरोना में अंतर

इंदौर: कोरोनावायरस के कहर के बीच इंदौर में एक नई पहल की गई है. इसमें 58 बालिकाओं को टीबी से बचाव की जानकारी दी गई. सभी से टीबी संबंधित पांच सवाल पूछे गए. चार बालिकाओं को टीबी संदिग्ध पाया गया. उनकी राजेन्द्र नगर डीएमसी के चेतन कुमरावत से काउंसलिंग करवाई गई और खखार एवं एक्स रे जांच के लिए मध्य भारत अस्पताल महू भेजा गया.

नाबालिग लड़के पर महिला ने लगाया छेड़खानी का आरोप, पुलिस ने केस किया दर्ज

बता दें, बालिकाओं को जानकारी देते हुए बताया गया कि टीबी की बीमारी रोजाना नया रूप धारण कर रही है. टीबी के लक्षण एवं कोरोना के लक्षण बिलकुल समान हैं. टीबी के लक्षण होने पर व्यक्ति कोरोना के लक्षण समझकर जांच करवाने नहीं जाता है. अपने आप को कोरोना से पीड़ित मरीज समझकर अपनी बीमारी को बढ़ा लेता है. ये लापरवाही कई बार जानलेवा भी साबित होती है. वर्तमान में कोरोना की स्थिति भयावह है इसलिए निचली बस्तियों में जाकर मरीजों को खोजना सुरक्षित नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें