इंदौर: कोलकाता की कंपनी ने कर्मचारी के शव घर भेजने के लिए खर्च किए 60 लाख रुपये

Smart News Team, Last updated: 29/08/2020 08:38 AM IST
  • 180 सीटर प्लेन बुक कर पार्थिव शरीर को कोलकाता से भेजा गया इंदौर कोलकाता की विसुवियस इंडिया लिमिटेड कंपनी ने मैनेजिंग डायरेक्टर के पार्थिव शरीर को प्लेन से भेजा घर परिजनों की पैतृक निवास स्थान इंदौर में दाह संस्कार करने की मांग पर कंपनी ने कोलकाता से घर भेजा शव
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर। कोलकाता स्थित विसुवियस इंडिया लिमिटेड कंपनी ने अपने कर्मचारी की मौत पर उसके शव को घर भेजने के लिए अनूठी मिसाल पेश करते हुए 60 लाख रुपये खर्च कर दिए.

परिजनों की मांग पर कंपनी ने अपने कर्मचारी के शव को उसके घर इंदौर भेजने के लिए प्लेन बुक कर लिया.इसके बाद शव को उनके घर भेजा गया. इस बात की चर्चा इंदौर में जोर-शोर से चल रही है.लोग कंपनी का गुणगान करते नहीं थक रहे हैं. सोशल मीडिया पर भी नया कारनामा तेजी से वायरल हो रहा है.

दरअसल इंदौर के ऊषा नगर एक्सटेंशन के रहने वाले रितेश डूंगरवाल कोलकाता स्थित विसुवियस इंडिया लिमिटेड कंपनी में मैनेजिंग डायरेक्टर के पद पर तैनात थे. वह विगत कई वर्षों से कंपनी की सेवा कर रहे थे.19 अगस्त को अचानक रितेश की तबीयत खराब हुई जिसके बाद उन्हें आनन फानन में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां इलाज के दौरान उनकी हार्टअटैक से मौत हो गई. मौत की सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया. 

परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था. परिजनों की सबसे बड़ी परेशानी थी कि शव को कैसे उनके पैतृक निवास स्थान इंदौर लाया जाए. कोरोना महामारी के चलते आवागमन के सीमित साधन उपलब्ध थे. परिवारीजन रितेश के शव को लाने की तैयारी में जुटे हुए थे. वह गाड़ी की बुकिंग आदि की तैयारी कर रहे थे. इस दौरान कंपनी ने परिवारीजनों को सांत्वना देने के लिए अपने 30 कर्मचारियों को उनके घर भेजा. साथ ही रितेश के शव को उनके पैतृक निवास स्थान इंदौर भेजने की व्यवस्था की. कंपनी ने एक नजीर पेश करते हुए करीब 60 लाख रुपए खर्च कर 180 सीटर प्लेन बुक किया. इस प्लेन से कंपनी ने रितेश के शव को उनके घर इंदौर भेजा. 

इसके बाद प्लेन वापस कोलकाता पहुंचा. इस तरह कंपनी ने कोलकाता से इंदौर जाने और वापस लौटने का किराया वहन किया.

कंपनी का मानना है कि परिजनों की इच्छा का सम्मान करना सबसे बड़ा कर्म है.

कोलकाता भले ही उनकी कर्मभूमि रही हो लेकिन इंदौर रितेश की जन्मभूमि थी इसलिए इनका अंतिम संस्कार इंदौर में किए जाने की परिजनों ने इच्छा जतायी थी.

परिजन प्राइवेट जेट बुक करने का प्रयास कर रहे थे. इस दौरान कंपनी ने अपनी दरियादिली दिखाते हुए अपने एम्पलाई के परिजनों की इच्छा का सम्मान करते हुए प्लेन बुक कर उनका शव घर भेजा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें