इंदौर: पत्नी को तलाक देने का दबाव बनाने पर युवती को कुचलवाया

Smart News Team, Last updated: 05/09/2020 07:30 AM IST
  • क्राइम ब्रांच ने इंदौर के गांधी नगर थाना क्षेत्र से पंकज उर्फ पवन उर्फ भोला व संजय उर्फ संजू बंगर को गिरफ्तार किया. एक लाख रुपये में दी गई हत्या की सुपारी, 20 हजार रुपये एडवांस चुकाए
क्राइम

इंदौर। इंदौर के गांधीनगर थाना क्षेत्र से क्राइम ब्रांच की टीम ने मैजिक से कुचलकर एक युवती की हत्या किए जाने के मामले में फरार चल रहे आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

क्राइम ब्रांच की टीम आरोपियों की तलाश कई दिनों से चल रही थी. इस दौरान मुखबिर की सूचना पर पहुंची क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपियों को दबोच लिया.

इसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने घटना का खुलासा किया.

क्राइम ब्रांच की टीम ने बताया कि एक युवती और उज्जैन के ढाबा संचालक सुखविंदर सिंह खनूजा में प्रेम प्रसंग चल रहा था. इस दौरान युवती ने ढाबा संचालक पर उसकी पत्नी को तलाक देकर अपने साथ शादी के लिए जाने का दबाव बनाया

रोज-रोज शादी का दबाव बनाए जाने से तंग आकर ढाबा संचालक सुखविंदर सिंह खनूजा ने युवती को रास्ते से हटाने की योजना बनाई. उसने वाहिद, भोला और समीर के साथ मिलकर एक मर्डर किए जाने का प्लान बनाया. जिसमें एक्सीडेंट के जरिए युवती को मारकर रास्ते से हटाया जाने का खाका तैयार किया गया.

हत्या को एक्सीडेंट दिखाने की की गई कोशिश

15 नवंबर 2019 को खनूजा ने युवती को बात करने के लिए ढाबे पर बुलाया. इस दौरान जैसे ही युवती सड़क पर ऑटो से उतरी. खनूजा ने वाहिद को इशारा कर दिया जिसके बाद वाहिद ने सड़क पर मैजिक गाड़ी दौड़ा दी.

इस दौरान वाहिद युवती को कुचलते हुए आगे निकल गया. ढाबे के सामने हुए एक्सीडेंट पर सभी लोग दौड़कर इकट्ठा हो गए. इस दौरान खनूजा ने दिखावे के लिए युवती को अस्पताल पहुंचाया. जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

घटना पर पहुंची पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर घटना की छानबीन शुरू कर दी. इस दौरान मैजिक का नंबर इंदौर का पाए जाने पर पुलिस को शक हुआ.

पुलिस ने घटना की छानबीन शुरू कर दी. पुलिस ने खनूजा को तत्काल गिरफ्तार कर लिया. इसके बाद उन्होंने घटना के तार जोड़ते हुए हत्या का खुलासा किया.

इस दौरान खनूजा और वाहिद ने घटना किए जाने की बात को कबूल किया. उन्होंने बताया फिर 20 हजार रुपये एडवांस के रूप में वाहिद को दिए गए थे जबकि युवती की हत्या किए जाने की सुपारी एक लाख रुपये में तय की गई थी.

युवती ने हत्यारोपी पर दर्ज कराया था रेप का मुकदमा

युवती की हत्या होने से पहले उसने ढाबा संचालक पर रेप का मुकदमा भी दर्ज करवाया था लेकिन इस केस में ढाबा संचालक बरी हो गया.

हालांकि युवती की हत्या किए जाने के 9 महीने बाद ही हत्यारोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें