इंदौर: मानव तस्करी करने वाले बबलू गैंग को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 15/09/2020 04:15 PM IST
  • इंदौर. 2 साल के बच्चे को बेचने के मामले में तकनीशियन आलोक भदौरिया को पुलिस ने किया गिरफ्तार. मानव तस्करी कांड के छह आरोपियों का करुणा मेटरनिटी होम नर्सिंग होम से है कनेक्शन
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर। इंदौर में मानव तस्करी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हो गया. पुलिस ने मानव तस्करी करने वाले गैंग के मुख्य सरगना सहित अन्य छह को गिरफ्तार कर आरोपियों से पुलिस पूछताछ कर रही है. पुलिस की तरफ जल्द ही कई बड़े खुलासे हो सकते हैं.

दरअसल मानव तस्करी करने वाले गैंग का मुख्य सरगना एमवाई में ट्राली धकेलता था. इसी दौरान उसने करुणा अस्पताल की नर्स से दूसरी शादी कर ली. इसके बाद उसने खुद को हर जगह डॉक्टर बताने का नया फंडा ढूंढ लिया. करुणा मेटरनिटी अस्पताल से जुड़े अन्य छह कर्मचारी भी मानव तस्करी गैंग से जुड़े हुए हैं.

मानव तस्करी कांड में अब तक 7 आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं. सभी मेडिकल फील्ड से ही जुड़े हुए हैं. इनमें छह आरोपी सीधे तौर पर करुणा मेटरनिटी एवं नर्सिंग होम से जुड़े हुए हैं.

इन आरोपियों ने अपने मूल काम के अलावा अविवाहित महिलाओं की डिलीवरी कराना और उनके बच्चों को बेचने के लिए एक गैंग बना लिया था. दरअसल ऐसे बच्चों को समाज में हेय दृष्टि से देखा जाता था, जिसके बाद गैंग द्वारा इन बच्चों की तस्करी की जाती थी.

इसमें मुख्य सरगना बबलू था. जो खुद को हर जगह डॉक्टर के रूप में परिचय कराता था. इसमें उसके अन्य साथी उसका सहयोग करते थे जिसमें उसकी पत्नी व नर्स शिल्पा का प्रमुख हाथ था. इस दौरान उसने करुणा मेटरनिटी हॉस्पिटल में डिलीवरी करना भी सीख लिया. एक नर्स से अवैध संबंध की जानकारी होने पर उसकी पत्नी ने सुसाइड कर लिया. जिसके बाद मानव तस्करी गैंग के मुख्य सरगना बबलू ने नर्स शिल्पा से शादी कर ली. शादी के बाद उसे भी अपने गैंग में शामिल कर लिया.

इंदौर क्राइम ब्रांच की कामयाबी, ऑनलाइन ठगी के शिकार लोगों को वापस दिलाए 3.40 लाख

मानव तस्करी करने वाले अन्य छह आरोपी मेडिकल फील्ड से जुड़े हुए थे . इस कारण बच्चों की डिलीवरी कराना या उन्हें ठिकाने लगाना इन सब के बाएं हाथ का खेल था. पुलिस को आशंका है कि अस्पताल प्रबंधन को भी इस बात की जानकारी हो सकती है. इसको लेकर पुलिस छानबीन कर रही है. इन सभी का अलग-अलग काम था. सबके काम बटे हुए थे व बखूबी सभी अपने काम को अंजाम भी देते थे. पुलिस में इनका भंडाफोड़ करते हुए गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें