इंदौर के सबसे बड़े दवा बाजार पर नकली रेमडेसिविर मामले में पुलिस ने बोला धावा

Smart News Team, Last updated: Wed, 12th May 2021, 12:38 PM IST
  • पिछले दिनों विजय नगर पुलिस ने एक बड़े गिरोह का खुलासा करते हुए 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जिनके तार सूरत के फैक्ट्री में बने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के गिरोह से जुड़े हुए थे . पुलिस को कॉल डिटेल में कई दवा बाजार से जुड़े दलालों की जानकारी भी मिली है और कई लोगों को हिरासत में भी लिया गया है .
प्रतिकात्मक तस्वीर 

इंदौर. मध्यप्रदेश में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन मामले में अब एक चौंकाने वाला खुलासा सामने आया है . इंदौर पुलिस की पूछताछ में ये जानकारी भी सामने आई है कि नकली इंजेक्शन के चलते कई लोगों के मौत भी हुए हैं . हाल ही में इंदौर पुलिस ने तीन ऐसे फरियादियों की शिकायत पर आरोपियों के विरुद्ध धारा 304 के तहत गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है . दरअसल पिछले दिनों विजय नगर पुलिस ने एक बड़े गिरोह का खुलासा करते हुए 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया था जिनके तार गुजरात के सूरत में स्थित फैक्ट्री में बने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के गिरोह से जुड़े हुए थे . गुजरात के मोरबी थाना पुलिस ने भी गिरोह के मुख्य सरगना कौशल वोरा,अमित शाह और सुनील मिश्रा को अपनी गिरफ्त में लिया है। वहीं अब इंदौर पुलिस इन आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर इंदौर लेकर आएगी जिनसे पूछताछ में कई बड़े खुलासे हो सकते हैं।

 

इधर, इस मामले में पुलिस को कॉल डिटेल में कई दवा बाजार से जुड़े दलालों की जानकारी भी मिली है . इसी के आधार पर सोमवार को इंदौर की विजनगर पुलिस ने आरएनटी मार्ग स्थित  दवा बाजार में दो दुकानों पर छापा मार कार्रवाई की थी . हालांकि दो में एक दुकान पर ही पुलिस को तथ्य मिले जिसके बाद पुलिस ने वहां मौजूद दलाल को हिरासत में लेकर पूछताछ की . पूछताछ के आधार पर देवास के चीकू शर्मा, सुनील लोधी और आशीष ठाकुर पर शिकंजा कसते हुए उन्हें गिरफ्तार किया  गया है .

एमपी में नकली दवा-इंजेक्शन बेचने वालों को होगी उम्र कैद, रासूका के तहत कार्रवाई

वही नकली इंजेक्शन मामले में पुलिस ने अब तक 14 लोगो को गिरफ्तार किया गया है और कई लोगों को हिरासत में लिया गया है .जल्द ही पुलिस इस मामले में नए खुलासे कर सकती है . जानकारी के मुताबिक मध्य प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों में भी गिरोह द्वारा नकली इंजेक्शन बेचे गए हैं जिसको लेकर के एसआईटी की टीम भी गठित की जा रही है। इंदौर आईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने बताया कि फरियादियों के सामने आने के बाद आरोपियों का क्रूरतम अपराध भी सामने आया है जिसके चलते पुलिस ने तत्काल धारा 304 में प्रकरण दर्ज किया गया है। इसके अलावा एनएसए की कार्रवाई की गई है . उनकी संपत्तियों की जांच कर उनके अवैध अतिक्रमण को भी ध्वस्त किया जाएगा .

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें