स्वच्छता सर्वेक्षण सम्मान : इंदौर का वार्ड 73 बना शहर का पहला जीरो वेस्ट वार्ड

Smart News Team, Last updated: 06/12/2020 02:58 PM IST
  • भोपाल में आयोजित स्वच्छता सर्वेक्षण सम्मान समारोह में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि स्वच्छता के मामले में इंदौर अपने से आगे किसी शहर को नहीं आने देता. किस तरह कचरे से आय के स्रोत पैदा किए जाएं, यह इंदौर से सीखना चाहिए. इंदौर ने कचरे को काले सोने के रूप में परिभाषित किया है.
इंदौर की पूर्व महापौर मालिनी गौड़ एवं पूर्व नगर निगम आयुक्त आशीष सिंह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हाथों प्रशस्ति पत्र सम्मान स्वरूप ग्रहण करते हुए

इंदौर. भोपाल के मिंटो हाल के ऑडिटोरियम में शनिवार को आयोजित स्वच्छता सर्वेक्षण सम्मान समारोह के आयोजन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर की तारीफ करते हुए कहा कि सफाई के मामले में इंदौर अपने से आगे किसी शहर को नहीं आने देता है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सम्मान समारोह में इंदौर को पुरस्कृत करते हुए बताया कि किस तरह इंदौर ने पिछले 4 साल से देश में सबसे स्वच्छ शहर का तमगा अपने पास बनाए रखा है. 

उन्होंने पूरे मीडिया के सामने सार्वजनिक तौर पर इंदौर की तारीफ करते हुए कहा कि किस तरह कचरे के निपटारे के साथ-साथ आय के स्रोत को पैदा किया जाए, यह इंदौर से सीखना चाहिए. इंदौर ने कचरे को काले सोने के रूप में परिभाषित किया है, जिससे वह खाद और गैस बनाकर आय भी अर्जित कर रहे हैं. निश्चित ही पिछले चार बार की तरह इस बार भी पांचवीं बार इंदौर देशभर में स्वच्छता के मुकुट के तौर पर प्रथम स्थान प्राप्त करेगा और स्वच्छता का पंचम लहराएगा. सम्मान समारोह के अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तत्कालीन महापौर मालिनी गौड़ एवं इंदौर के पूर्व नगर निगम कमिश्नर आशीष सिंह को स्वच्छता के इस योगदान के लिए प्रशस्ति पत्र भेंट कर उनका सम्मान किया. 

इंदौर एक बार फिर 10 लाख से अधिक आबादी वाले सबसे साफ शहरों में शामिल

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने इंदौर के वार्ड नंबर 73 सैफी नगर को जीरो वेस्ट अवार्ड से भी नवाजा, क्योंकि यह इंदौर का पहला ऐसा वार्ड है, जहां कोई भी वेस्ट कचरा या मटेरियल नहीं पाया जाता या तो उसे रीसायकल कर दिया जाता है या फिर उसका रीयूज किया जाता है. इस दौरान शिवराज सिंह चौहान ने वार्ड नंबर 73 के नागरिकों से लाइव संवाद भी किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें