इंदौर: होम आइसोलेशन पर निर्भरता से अस्पतालों में घटी कोरोना के मरीजों की संख्या

Smart News Team, Last updated: 18/10/2020 05:49 PM IST
  • कोरोनावायरस संक्रमण के कारण पिछले कुछ महीनों में अस्पताल में मरीजों की भीड़ थी. आलम यह था कि कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद भी लोगों को अस्पताल में बेड उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे. , वहीं अब शहर के उन 40 अस्पतालों में उपलब्ध चार हजार बिस्तरों में से आधे खाली हैं.
होम आइसोलेशन की सहायता से इंदौर के कई अस्पतलों में बिस्तर खली

इंदौर: कोरोनावायरस संक्रमण के कारण पिछले कुछ महीनों में अस्पताल में मरीजों की भीड़ थी. आलम यह था कि कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद भी लोगों को अस्पताल में बेड उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे. जहां अस्पतालों में गंभीर और संक्रमित मरीजों को भी बिस्तर उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे, वहीं अब शहर के उन 40 अस्पतालों में उपलब्ध चार हजार बिस्तरों में से आधे खाली हैं.

 जहां कोरोना मरीजों के इलाज की सुविधा उपलब्ध है. बता दें, स्वास्थ्य विभाग द्वारा पिछले एक माह में होम आइसोलेशन पर ज्यादा ध्यान दिया गया है. करीब दो हजार मरीज होम आइसोलेशन में अपना इलाज करवा रहे हैं. ऐसे में अस्पतालों में मरीजों की संख्या कम हो गई है.

इंदौर में दो युवाओं ने खोजा कपड़ों का फॉर्मूला, जो मक्खी और मच्छरों को रखेगा दूर

वहीं, गंभीर रूप से संक्रमित मरीजों के आईसीयू में भी उपलब्ध बिस्तरों में से 50 फीसदी खाली हैं. अरबिंदो अस्पताल के छाती रोग के विभागाध्यक्ष डॉ. रवि डोसी के अनुसार मरीजों की कमी के कारण अस्पताल की चौथी और पांचवीं मंजिल पूरी तरह खाली है. इसके अलावा कई अस्पतालों के आईसीयू 90 प्रतिशत से ज्यादा खाली हैं. कुछ अस्पतालों में कोविड के लिए आरक्षित वार्ड में ताले लग गए हैं. सरकारी अस्पताल में जहां सुपर स्पेशिएलिटी में महज 10 फीसद मरीज हैं, वहीं एमआरटीबी, एमटीएच में भी मरीजों को आसानी से बिस्तर मिल रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें