हरतालिका तीज पर इस आरती के संग पूजा को करें संपन्न, बरसेगी असीम कृपा

Anuradha Raj, Last updated: Tue, 7th Sep 2021, 6:13 PM IST
  • हरतालिका तीज इस बार 9 सितंबर 2021 को मनाया जाएगा. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना करते हुए विधि-विधान से व्रत रखती हैं, और पूजा अर्चना करती हैं. 
हरतालिका तीज 2021

हरतालिका तीज को उत्तर भारत में बेहद ही धूम-धाम से मनाया जाता है. इस व्रत में महिलाएं दिनभर ना कुछ खाती हैं, और ना कुछ पीती हैं. माता पार्वती और भगवान शिव की पूजा कर महिलाएं इस दिन अखंड सौभाग्य की कामना करती हैं. इस बार हरतालिका तीज 9 सितंबर को पड़ रहा है. हर साल ये व्रत भादो मास की शुक्ल पक्ष के तृतीया तिथि को रखा जाता है. सबसे कठिन व्रतों में से एक व्रत होता है. यहां जानें हरतालिका तीज व्रत आरती….

 

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

आरती ओवळीतें| ज्ञानदीपकळिके||

हर अर्धंगी वससी| जासी यज्ञा माहेरासी|

तेथें अपमान पावसी| यज्ञकुंडींत गुप्त होसी||

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

रिघसी हिमाद्रीच्या पोटी| कन्या होसी तू गोमटी|

उग्र तपक्ष्चर्या मोठी| आचरसी उठाउठी||

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

तापपंचाग्रिसाधनें| धूम्रपानें अधोवदनें|

केली बहु उपोषणें| शंभु भ्रताराकारणें||

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

लीला दाखविसी दृष्टी| हें व्रत करिसी लोकांसाठी|

पुन्हा वरिसी धूर्जटी| मज रक्षावें संकटीं||

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

काय वर्ण तव गुण| अल्पमति नारायण|

मातें दाखवीं चरण| चुकवावें जन्म मरण||

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

जय देवी हरतालिके| सखी पार्वती अंबिके|

आरती ओवळीतें| ज्ञानदीपकळिके||

 

इस दिन महिलाएं नए वस्त्र पहनती हैं, सोलह श्रृंगार करती हैं.  हाथों में मेहंदी लगाती हैं, शाम के दौरान विधि-विधान से पूजा अर्चना करती हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें