Somvar 2021: इन मंत्रो की करें जाप, भगवान शिव खुश होकर करेंगे सभी मनोकाना पूर्ण

Anuradha Raj, Last updated: Sat, 11th Sep 2021, 6:49 PM IST
  • सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित होता है. हिंदू धर्म में सोमवार दिन का बहुत महत्व होता है. इस दिन विधि-विधान से व्रत रखने और पूजन करने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है.
सोमवार 2021

हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव को सोमवार का दिन समर्पित होता है. 13 सितंबर को सोमवार है. ऐसे में अगर आप भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो उनकी पूजा अर्चना करें. भगवान शिव की इस दिन जो पूजा करते हैं, उन पर विशेष कृपा बरसती है. पौराणिक मान्यता ऐसी है कि अगर आप सोमवार को विधि-विधान से भोलेनाथ की पूजा करेंगे तो भगवान जरूर प्रसन्न होंगे. महिलाएं सोमवार का व्रत रख सौभाग्य की कामना करती हैं. इतना ही नहीं मनचाहा वर पाने के लिए भी कुंवारी कन्याएं सोमवार का व्रत रखती हैं, जिससे उन्हें मनचाहा जीवनसाथी मिलता है. मंत्रों का हर पूजा में बेहद ही खास महत्व होता है. ऐसे में भगवान शिव को प्रसन्न करना है तो इन शक्तिशाली मंत्रों का करें जाप…

- ओम साधो जातये नम:।।

- ओम वाम देवाय नम:।।

ओम अघोराय नम:।।

- ओम तत्पुरूषाय नम:।।

- ओम ईशानाय नम:।।

-ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय।।

रूद्र गायत्री मंत्र

ॐ तत्पुरुषाय विदमहे, महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्।।

महामृत्युंजय गायत्री मंत्र

– ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्द्धनम्‌।

उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्‌ ॐ स्वः भुवः ॐ सः जूं हौं ॐ ॥

शिव जी का मूल मंत्र

– ऊँ नम: शिवाय।।

शिव पंचाक्षर स्त्रोत :

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांगरागाय महेश्वराय.

नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे"न" काराय नमः शिवायः॥

मंदाकिनी सलिल चंदन चर्चिताय नंदीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय|

मंदारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय तस्मे "म" काराय नमः शिवायः॥

शिवाय गौरी वदनाब्जवृंद सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय.

श्री नीलकंठाय वृषभद्धजाय तस्मै"शि" काराय नमः शिवायः॥

वषिष्ठ कुभोदव गौतमाय मुनींद्र देवार्चित शेखराय.

चंद्रार्क वैश्वानर लोचनाय तस्मै"व" काराय नमः शिवायः॥

यज्ञस्वरूपाय जटाधराय पिनाकस्ताय सनातनाय.

दिव्याय देवाय दिगंबराय तस्मै "य" काराय नमः शिवायः॥

पंचाक्षरमिदं पुण्यं यः पठेत शिव सन्निधौ|

शिवलोकं वाप्नोति शिवेन सह मोदते॥

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें