Video: नाचते हुए घोड़ी पर बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंची, इसके पीछे थी बड़ी वजह

Ruchi Sharma, Last updated: Thu, 9th Dec 2021, 9:41 AM IST
  • रतलाम में एक बारात का वीडियो जमकर वायरल हो रहा है. वीडियो में एक दुल्हन खुद घोड़ी पर सवार होकर बैंड बाजों के साथ नाचते हुए दूल्हे के घर पहुंच गई. दुल्हन के साथ उसके परिवार और रिश्तेदार भी थे जो बैंड बजा के साथ नाचते गाते दूल्हे के घर पहुंच गए.
Video: नाचते हुए घोड़ी पर बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंची, इसके पीछे थी बड़ी वजह

इंदौर. शादियों का सीजन चल रहा है और ऐसे में शादी को लेकर नए- नए ट्रेंड देखने को मिलते हैं. कभी दुल्हन नाचते हुए आती हैं तो कभी दूल्हा नाचते हुए दिखता है. तो कभी दुल्हन दूल्हे की मांग में सिंदूर भरते हुए नजर आती हैं. नए जमाने के इस दौर में शादियों में नए ट्रेंड देखने को मिलते हैं. जो सोशल मीडिया पर वायरल हो जाते हैं. एक ऐसा ही वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. इस वीडियो में दूल्हा नहीं बल्कि दुल्हन घोड़ी पर सवार होकर दूल्हे के घर पहुंच जाती है.

आमतौर पर बैंड बाजा के साथ घोड़ी पर अपने दूल्हे को सवार होते देखा होगा, लेकिन यहां दुल्हन घोड़ी पर सवार होकर दूल्हे को लेने पहुंच गई. खास बात तो यह थी कि दुल्हन के साथ उसके परिवार भी दुल्हन के साथ नाचते गाते पहुंच गए. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है.

 

Video: घोड़ी पर सवार दुल्हन बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंची, इसके पीछे थी बड़ी वजह

 

दुल्हन के साथ परिजन में पहुंचे

दरअसल यह वीडियो मध्य प्रदेश के रतलाम का है. यहां एक बारात का वीडियो जमकर वायरल हो रहा है. इस वायरल वीडियो में बारात में लोग नाच रहे हैं, बैंड बाजा है, लेकिन इसमें कुछ अलग है तो वो है घोड़ी पर दूल्हा नहीं बल्कि दुल्हन है. वह घोड़ी पर ही नाच भी रही है. दुल्हन लाल जोड़े में घोड़ी पर सवार को कर दुल्हे को लेने पहुंची है. लोगों ने इसका वीडियो बनाकर खूब वायरल किया.

Video: बाइक हुई असंतुलित, बच्चा गिरा और गुजर गई ट्रक, परिजनों को कोस रहे लोग

 

जानिए इसके पीछे असल वजह

जानकारी के मुताबिक यह श्रीमाली ब्राह्मण समाज की एक परम्परा है. जिसमे दुल्हन शादी के पहले घोड़ी पर बैठकर निकलती है और फिर उसी घोड़ी पर दूल्हा बारात लेकर दुल्हन से शादी करने आता है. इस घोड़ी पर बैठकर दूल्हा दुल्हन से शादी करने के लिए बरात लेकर उसके घर पहुंचता है. रतलाम के श्रीमाली वास निवासी आयुषी अपने समाज में विलुप्त हो रही इस परंपरा को पुनर्जीवित करने के उद्देश को लेकर सज धज कर घोड़ी पर बैठी और बैंड बाजे के साथ परिजनों को लेकर नाचते हुए दूल्हे के यहां पहुंची.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें