इंदौर के बड़वानी में सिखों से मारपीट, मामले ने पकड़ा तूल, दो पुलिसकर्मी सस्पेंड

Smart News Team, Last updated: 08/08/2020 07:39 AM IST
  • इंदौर के बड़वानी जिले के पलसूद में पुलिस की कार्रवाई के दौरान दो सिंख युवकों से पुलिस जवानों द्वारा बदसलूकी और मारपीट का मामले के तूल पकड़ने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा दो पुलिस कर्मियों के सस्पेंड कर दिया है। 
पुलिसकर्मी सस्पेंड

इंदौर के बड़वानी जिले के पलसूद में पुलिस द्वारा सिख युवकों से बदसलूकी कर मारपीट करने का मामले का वीडियो सोश्यल साइट्स पर वाइरल हुआ जिससे काफ़ी बवाल मच गया। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर, मंजिंदर सिंह सिरसा, सुखबीर सिंह बादल ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कार्रवाई की मांग कर दी ।

मामले में सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि सिखों हो या कोई और आम व्यक्ति, ऐसी बर्बरता किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं करेंगे। पूरे मामले एएसआई सीताराम भटनागर और हेड कांस्टेबल मोहन जामरे को सिख बन्धुओं के साथ किए गए अमानवीय व्यवहार के लिए तुरंत निलंबित किया गया है। सिखों के साथ ऐसी बर्बरता किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मामले की जांच इंदौर आईजी द्वारा की जाएगी और इनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी।

बड़वानी मारपीट का यह है मामला

दरअसल बड़वानी जिले पलसूद के वार्ड 15 में प्रेम सिंह सिकलीगर पुरानी पुलिस चौकी के पास ताला-चाबी की दुकान लगाता है। बीते दिन देर शाम पुलिस बिना मास्क के घूमने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर रही थी। उस समय इसी क्षेत्र में पुलिस गश्त करते हुए पहुंची तो प्रेम सिंह अपना सामान बाइक पर लेकर घर जा रहा था। तो पुलिस अधिकारियों ने गाड़ी रोककर कर दस्तावेज मांगे ।कागज नहीं होने पर उन्होंने चालन के 250 रुपए मांगे। इस पर प्रेम सिंह ने कहा कि उसने दिनभर में 200 रुपए ही कमाए हैं। 250 रुपए कहां से दूँ। इसी बात को लेकर विवाद शुरू हुआ, जो बाद में मारपीट में बदल गया।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें